HomeIndia Newsराहुल बोले-आदिवासी देश के असली मालिक: कहा-टंट्या मामा को अंग्रेजों ने फांसी चढ़ाया, RSS ने...

राहुल बोले-आदिवासी देश के असली मालिक: कहा-टंट्या मामा को अंग्रेजों ने फांसी चढ़ाया, RSS ने उनकी मदद की

Date:

Related stories

फिर जहरीली हुई दिल्ली की हवा: रविवार को AQI 400 के पार रहा, कंस्ट्रक्शन पर बैन

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली AQI 400, वायु गुणवत्ता खराब होने पर...
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra Madhya Pradesh LIVE Update; Priyanka Gandhi Sachin Pilot | Congress Yatra Khandwa Latest Photos

यज्ञदत्त परसाई, सावन राजपूत। खंडवाएक घंटा पहले

- Advertisement -

टंट्या मामा की जन्मस्थली पर आयोजित सभा में राहुल गांधी को कांग्रेस विधायक झूमा सोलंकी ने धनुष-बाण देकर उनका स्वागत किया।

- Advertisement -

मध्यप्रदेश में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा दूसरे दिन 23 किलोमीटर चली। पहली बार यात्रा में प्रियंका गांधी, उनके साथ पति रॉबर्ट वाड्रा और बेटा रेहान शामिल हुए। दूसरे दिन का आखिरी पड़ाव खंडवा का छैगांव माखन रहा। इससे पहले राहुल गांधी आदिवासी जननायक टंट्या मामा की जन्मस्थली पर पहुंचे। राहुल गांधी ने यहां सभा में कहा- आदिवासी इस देश के असली मालिक हैं। बीजेपी ने आदिवासियों को वनवासी कहा, इसके पीछे उनकी दूसरी सोच है। इसके लिए बीजेपी आदिवासियों से माफी मांगे।

- Advertisement -

राहुल गांधी ने कहा कि अंग्रेजों ने टंट्या मामा को फांसी पर चढ़ाया और RSS ने अंग्रेजों की मदद की। राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि आदिवासियों पर सबसे ज्यादा अत्याचार मध्यप्रदेश में हो रहे हैं। ऐसा प्रदेश हमें नहीं चाहिए, हमें आदिवासियों को इज्जत और रक्षा देने वाला प्रदेश चाहिए।

राहुल गांधी वीर योद्धा टंट्या मामा की जन्मस्थली बड़ोदा अहीर पहुंचे। जहां उन्होंने उनके स्मारक पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए।

राहुल गांधी वीर योद्धा टंट्या मामा की जन्मस्थली बड़ोदा अहीर पहुंचे। जहां उन्होंने उनके स्मारक पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए।

इससे पहले गुरुवार को यात्रा की शुरुआत सुबह खंडवा के बोरगांव बुजुर्ग से शुरू हुई। लंच ब्रेक रुस्तमपुर में हुआ। यहां से राहुल गांधी कार से टंट्या मामा की जन्मस्थली बड़ोदा अहीर पहुंचे। यहां सभा को संबोधित करने के बाद दूसरे चरण की यात्रा डूल्हार फाटा के गुरुद्वारा साहिब से शुरू हुई। यात्रा का रात्रि विश्राम खरगोन जिले के खेरदा में है। शुक्रवार को यहीं से यात्रा आगे बढ़ेगी।

लंच ब्रेक के पहले सचिन पायलट भी राहुल गांधी के साथ यात्रा में शामिल हुए। हालांकि लंच ब्रेक के बाद पायलट नहीं दिखे। प्रियंका गांधी 3 दिन तक भारत जोड़ो यात्रा में रहेंगी। वे अंबेडकर नगर महू तक यात्रा में रहेगी। महू में 26 नवंबर को सभा होनी है।

राहुल गांधी ने आदिवासियों के जननायक टंट्या मामा की जन्मस्थली पर एक सभा को संबोधित किया।

राहुल गांधी ने आदिवासियों के जननायक टंट्या मामा की जन्मस्थली पर एक सभा को संबोधित किया।

राहुल गांधी टंट्या मामा की जन्मस्थली पर 15 मिनट बोले- पढ़िए उनके भाषण की प्रमुख बातें

‘टंट्या मामा एक सोच और एक विचारधारा थे’
‘जैसा कि कमलनाथ जी ने कहा- हमारे लिए टंट्या मामा एक चिन्ह हैं। एक सोच हैं। एक व्यक्ति जरूर थे। एक विचारधारा भी हैं। उनकी सोच और विचारधारा के कारण मैं आज यहां आया हूं। आदिवासी का मतलब जो हिंदुस्तान में सबसे पहले रहते थे। मतलब- जब इस देश में कोई नहीं था, तब भी आप लोग इस देश में रहते थे। अगर आप आदिवासी हो, अगर आप यहां सबसे पहले रहते थे, तो यह हक बनता है कि आप इस देश के मालिक हैं।

आदिवासियों के बीच मंच पर पहुंचे राहुल गांधी ने सबसे पहले अपने टेबल से बिस्लेरी की 4 बॉटल हटवाई।

आदिवासियों के बीच मंच पर पहुंचे राहुल गांधी ने सबसे पहले अपने टेबल से बिस्लेरी की 4 बॉटल हटवाई।

‘टंट्या मामा मतलब आदिवासी, संघर्ष, निडरता और क्रांतिकारी’
ये जो शब्द होते हैं, बहुत चीजें छुपा और दिखा भी सकते हैं। टंट्या मामा के बारे में सोचते हैं तो सबसे पहले कौन सा शब्द आता है। आदिवासी, संघर्ष, निडरता, क्रांतिकारी ये शब्द आते हैं। जब वो अंग्रेजों के सामने फांसी पर चढ़ रहे थे, तो आपको क्या लगता है, डर था या नहीं। सवाल ही नहीं उठता।

कुछ दिन पहले मोदी का भाषण सुना। उसमें उन्होंने एक नया शब्द यूज किया- वनवासी। इस शब्द के पीछे उनकी दूसरी सोच है। आदिवासी के पीछे सोच है कि इस देश के पहले मालिक आप हो। इसका मतलब-आपकी जमीन, जंगल और जल पर आपका हक होना चाहिए। मगर वहां रुकना नहीं है। आप असली मालिक हो तो आपको और आपके बच्चों को अधिकार मिलना चाहिए। अगर आपका बच्चा इंजीनियर बनने का सपना देखे तो सरकार को पूरी मदद करनी चाहिए।

टंट्या मामा की जन्मस्थली पर राहुल गांधी की सभा में भारी संख्या में आदिवासी लोग जुटे हैं।

टंट्या मामा की जन्मस्थली पर राहुल गांधी की सभा में भारी संख्या में आदिवासी लोग जुटे हैं।

‘बीजेपी पब्लिक सेक्टर बंद करती है, आदिवासियों को चोट पहुंचाती है’
अगर आपकी बेटी डॉक्टर-इंजीनियर बनना चाहे तो उसकी पूरी मदद मिलनी चाहिए। क्योंकि आप उसके हकदार हो। सबसे पहले आपका काम होना चाहिए। मलतब जंगल तो आपका है, लेकिन जंगल के बाहर भी अधिकार मिलना चाहिए। जब बीजेपी की सरकारें स्कूल और कॉलेज को प्रायवेटाइज कर देती है। उद्योगपतियों के हवाले कर देती हैं तो आपके बच्चे शिक्षा नहीं पा पाते। आपके परिवारों को जब अस्पताल की जरूरत होती है तो वहां नहीं जा पाते। बीजेपी पब्लिक सेक्टर को बंद करती है। रेलवे, BHEL को प्रायवेटाइज करने का काम करती है तो सीधा आदिवासियों को चोट बांटती है।

आपसे मैं पूछता हूं, नोटबंदी से आपको फायदा हुआ या नुकसान। GST, नोटबंदी और कोरोना के समय जो सरकार ने किया, दलितों को आदिवासियों, मजदूरों को, पिछड़ों को, किसानों को उन्होंने चोट मारी। मैं भाषण में कहता हूं यह पॉलिसी नहीं थी, हथियार है। मोदी जी एक शब्द लाएं वनवासी। इसका मतलब यह है आप पहले मालिक नहीं हो, आप सिर्फ जंगल में रहते हो। दूसरा मतलब- जंगल के बाहर आपको कोई अधिकार नहीं मिलना चाहिए। तीसरा मतलब- जो आपको दिख रहा है, बीजेपी की सरकारें जंगल काटे जा रही है।

‘वनवासी कहने पर माफी मांगे बीजेपी’
तीसरा मतलब यह है कि जब इस देश से जंगल खत्म हो जाएंगे तो आपके लिए इस देश में जगह नहीं बचेगी। हम आपको यह शब्द क्यों बताएं। हम आदिवासी कहते हैं तो हम आपको मानते हैं आप देश के पहले मालिक हो। वो वनवासी कहते हैं, क्योंकि वो आपके सारे अधिकार को छीनना चाहते हैं। ये जो बीजेपी के लोगों ने आपका अपमान किया है। ये जो वनवासी शब्द उपयोग किया है, उसके लिए आपसे माफी मांगे। हाथ जोड़कर हिंदुस्तान के आदिवासियों से माफी मांगें।

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी भी साथ चल रही हैं। उनके साथ रॉबर्ट वाड्रा भी हैं। यह पहला मौका है जब प्रियंका गांधी इस यात्रा में शामिल हुई हैं। यात्रा का आज 78वां दिन है।

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी भी साथ चल रही हैं। उनके साथ रॉबर्ट वाड्रा भी हैं। यह पहला मौका है जब प्रियंका गांधी इस यात्रा में शामिल हुई हैं। यात्रा का आज 78वां दिन है।

‘हमारी सरकार आने पर आपको आपके हक देंगे’
माफी मांगने के बाद जो ये आपसे जंगल छीनते है, जो पेसा कानून लाए, जमीन अधिग्रहण बिल लाए, फॉरेस्ट राइट एक्ट लाए, इन तीन कानूनों को जो कमजोर करते हैं और आपकी जो जमीन है, आपसे छीनते हैं, आपका जल है, जंगल है, वो आपको वापस देने का काम करें। और अगर ये नहीं करेंगे तो जैसे ही हमारी यहां सरकार आएगी। हम आदिवासी शब्द का प्रयोग करेंगे और जो आपके हक हैं, एक के बाद एक हम आपको देना शुरू कर देंगे। आपके जल, जंगल और जमीन का अधिकार आपको वापस देने का काम शुरू करेंगे।

आप जानते हो कि आदिवासियों के खिलाफ सबसे ज्यादा अत्याचार मध्यप्रदेश में हो रहा है। आदिवासी जानता है कि अगर किसी प्रदेश में आदिवासियों के खिलाफ सबसे ज्यादा अत्याचार होता है तो वह मध्यप्रदेश है। इसका नाम मध्यप्रदेश है। ऐसा प्रदेश हमें नहीं चाहिए, हमें आदिवासियों को इज्जत और रक्षा देने वाला प्रदेश चाहिए। और ये जो वनवासी शब्द है। इसका प्रदेश हमें नहीं चाहिए। आप लोग यहां आए और प्यार से मेरी बात को सुना। इसके लिए धन्यवाद।’

राहुल ने खुद जताई थी इच्छा
कमलनाथ ने कहा कि जब भारत जोड़ो यात्रा का कार्यक्रम बन रहा था, तब राहुल गांधी ने कहा था कि मैं टंट्या मामा की जन्मस्थली पर जरूर जाऊंगा। ये केवल उनकी इच्छी नहीं थी, बल्कि उनका निर्देश था। सबसे खास बात ये रही कि जयस के अध्यक्ष और कांग्रेस के टिकट पर विधायक बने हीरालाल अलावा भी मंच पर मौजूद रहे।

भारत जोड़ो यात्रा 6 राज्यों से होकर मध्यप्रदेश आई है। यात्रा में गुरुवार को मध्यप्रदेश के साथ ही राजस्थान के नेता भी शामिल हुए।

भारत जोड़ो यात्रा 6 राज्यों से होकर मध्यप्रदेश आई है। यात्रा में गुरुवार को मध्यप्रदेश के साथ ही राजस्थान के नेता भी शामिल हुए।

इससे पहले मध्यप्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा के दूसरे दिन पहले चरण में राहुल गांधी 14 किलोमीटर से ज्यादा चले। राजस्थान के नेता भी राहुल के साथ चल रहे हैं। गुरुवार को यात्रा का 78वां दिन है। कन्हैया कुमार भी यात्रा में साथ हैं। यात्रा 12 दिन में मध्य प्रदेश के 6 जिलों से होती हुई 4 दिसंबर को राजस्थान में एंट्री करेगी। राहुल गांधी शुक्रवार, 25 नवंबर को शाम 6:30 बजे ओंकारेश्वर में मां नर्मदा की आरती, ओंकारेश्वर के दर्शन और आराधना करेंगे।

भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी के साथ बहन प्रियंका और भांजा रेहान भी चल रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी यात्रा में पैदल चले।

भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी के साथ बहन प्रियंका और भांजा रेहान भी चल रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी यात्रा में पैदल चले।

राहुल ने ट्‌वीट भी किया…
लिखा- रास्तों से लड़कर हमने कई मुकाम बनाए हैं। साथ हैं तो यकीन है, मंजिल जरूर पाएंगे।

कांग्रेस भी भारत जोड़ो यात्रा का मध्यप्रदेश में आज दूसरा दिन है। यात्रा खंडवा के बोरगांव बुजुर्ग से शुरू हुई। राहुल गांधी रुस्तमपुर से टंट्या भील की जन्मस्थली के लिए चले। इसके बाद डूल्हार के गुरुद्वारा में लंच ब्रेक होगा। यात्रा में राजस्थान के कद्दावर नेता सचिन पायलट भी चले।

कांग्रेस भी भारत जोड़ो यात्रा का मध्यप्रदेश में आज दूसरा दिन है। यात्रा खंडवा के बोरगांव बुजुर्ग से शुरू हुई। राहुल गांधी रुस्तमपुर से टंट्या भील की जन्मस्थली के लिए चले। इसके बाद डूल्हार के गुरुद्वारा में लंच ब्रेक होगा। यात्रा में राजस्थान के कद्दावर नेता सचिन पायलट भी चले।

भारत जोड़ो यात्रा में कांग्रेस सेवा दल भी साथ चल रहा है। इसका गठन 8 दिसंबर 1923 को हिंदुस्तानी सेवादल के नाम से किया गया था। 1947 में इसका नाम हिंदुस्तानी सेवादल से बदलकर कांग्रेस सेवा दल कर दिया गया।

भारत जोड़ो यात्रा में कांग्रेस सेवा दल भी साथ चल रहा है। इसका गठन 8 दिसंबर 1923 को हिंदुस्तानी सेवादल के नाम से किया गया था। 1947 में इसका नाम हिंदुस्तानी सेवादल से बदलकर कांग्रेस सेवा दल कर दिया गया।

खंडवा के बोरगांव बुजुर्ग से शुरू हुई भारत जोड़ो यात्रा का रास्ते में लोकनृत्य से स्वागत किया गया।

खंडवा के बोरगांव बुजुर्ग से शुरू हुई भारत जोड़ो यात्रा का रास्ते में लोकनृत्य से स्वागत किया गया।

भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी और प्रियंका के साथ राजस्थान कांग्रेस के कद्दावर नेता सचिन पायलट भी चल रहे हैं।

भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी और प्रियंका के साथ राजस्थान कांग्रेस के कद्दावर नेता सचिन पायलट भी चल रहे हैं।

खंडवा जिले के कुुमठी गांव की महिलाएं और बच्चे भारत जोड़ो यात्रा को देखने के लिए घरों से बाहर आकर खड़ी हो गईं। राहुल ने ग्रामीणों का अभिवादन किया।

खंडवा जिले के कुुमठी गांव की महिलाएं और बच्चे भारत जोड़ो यात्रा को देखने के लिए घरों से बाहर आकर खड़ी हो गईं। राहुल ने ग्रामीणों का अभिवादन किया।

खंडवा से शुरू हुई भारत जोड़ो यात्रा में कन्हैया कुमार भी साथ चल रहे हैं। वे वर्तमान में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता हैं। वह 2015 में जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष पद के लिए चुने गए थे।

खंडवा से शुरू हुई भारत जोड़ो यात्रा में कन्हैया कुमार भी साथ चल रहे हैं। वे वर्तमान में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता हैं। वह 2015 में जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष पद के लिए चुने गए थे।

भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने बुधवार शाम प्रियंका गांधी इंदौर पहुंचीं। एयरपोर्ट पर उनका स्वागत कांग्रेस नेताओं ने किया। यहां से वे कार से बुरहानपुर के झिरी के लिए रवाना हुईं।

भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने बुधवार शाम प्रियंका गांधी इंदौर पहुंचीं। एयरपोर्ट पर उनका स्वागत कांग्रेस नेताओं ने किया। यहां से वे कार से बुरहानपुर के झिरी के लिए रवाना हुईं।

राहुल गांधी के साथ मध्य प्रदेश के दो पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और दिग्विजय सिंह साथ चल रहे हैं।

राहुल गांधी के साथ मध्य प्रदेश के दो पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और दिग्विजय सिंह साथ चल रहे हैं।

ऐसा है MP में आगे की यात्रा का शेड्यूल

ये भी पढ़ें…

राहुल गांधी की यात्रा के 15 PHOTO:बहन प्रियंका, जीजा वाड्रा के साथ दिखी बॉन्डिंग

​​​​​​कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा आज खंडवा जिले में है। मध्यप्रदेश में ये यात्रा का दूसरा दिन है। यात्रा खंडवा के बोरगांव बुजुर्ग से शुरू हुई। कन्याकुमारी से शुरू इस यात्रा का आज 78वां दिन है। पहली बार प्रियंका गांधी यात्रा में शामिल हुईं। पति रॉबर्ट वाड्रा और बेटे रेहान वाड्रा भी साथ हैं। प्रियंका हिमाचल प्रदेश के चुनाव में व्यस्त थीं। कन्हैया कुमार और सचिन पायलट भी साथ चल रहे हैं। फोटो देखने के लिए यहां क्लिक करें…

भीड़ देखकर बोले राहुल गांधी- मध्यप्रदेश ने पहले ही दिन महाराष्ट्र की यात्रा को हरा दिया

एमपी में भारत जोड़ो यात्रा में जुटी भीड़ को देखकर राहुल गांधी काफी उत्साहित नजर आए। उन्होंने कहा- मध्यप्रदेश ने पहले ही दिन महाराष्ट्र की यात्रा को हरा दिया। राहुल बोले- मैं मध्यप्रदेश के कांग्रेस नेताओं, कार्यकर्ताओं और जनता को ए ग्रेड देता हूं। दिल से धन्यवाद करना चाहता हूं, जिन्होंने यात्रा को ऑर्गनाइज किया, जिन्होंने इसमें साथ दिया। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

राहुल बोले- बीजेपी ने MP में भ्रष्ट विधायक खरीदकर सरकार बनाई

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा लंच ब्रेक के बाद दोबारा शुरू हो गई है। सुबह यात्रा की MP में एंट्री बुरहानपुर के बोदरली गांव से हुई। मॉर्निंग पैदल मार्च के बाद बुरहानपुर के जेवियर कॉलेज में यात्रा का लंच ब्रेक हुआ। यहां से यात्रा फिर शुरू हुई, ये यात्रा बुरहापुर के ट्रांसपोर्ट नगर पहुंची जहां राहुल गांधी ने संबोधित किया। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

टंट्या मामा के वंशज बोले- न पक्का मकान मिला, न गैस कनेक्शन

राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा के दौरान टंट्या भील के वंशजों से भी मिलेंगे। वह खंडवा के बड़ौदा-अहीर में टंट्या भील की जन्मस्थली भी जाएंगे। दैनिक भास्कर ने टंट्या भील के वंशजों से बात की तो वे सरकार से नाराज नजर आए। बातचीत में उन्होंने बताया, नेता हमारे घर आते हैं, कहते हैं आप टंट्या मामा के वंशज हो, हम आपका सम्मान करेंगे। हम लोग जाते हैं और वो हमें मंच पर बैठाते हैं। वादा करते हैं कि आपकी मदद करेंगे। अब तक ऐसे कई वादे हो चुके हैं, लेकिन निभाया किसी ने भी नहीं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

यहां इंदिरा आई थीं तब भाजपा के कुशाभाऊ हारे थे: अब उसी बुरहानपुर में है राहुल गांधी की सभा

भारत जोड़ो यात्रा के साथ 23 नवंबर को कांग्रेस सांसद राहुल गांधी बुरहानपुर पहुंचे। उन्होंने महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश को जोड़ने वाले गांव बोदरली से MP में एंट्री की। वे नेहरू-गांधी परिवार के चौथे शख्स हैं, जो बुरहानपुर आए हैं। 41 साल पहले 1980 में इंदिरा गांधी बुरहानपुर आई थीं। तीन दिन यहां रुकी भी थीं। सबसे खास है कि जिस बोदरली गांव से यात्रा एमपी में एंट्री ले रही है, उसी गांव में इंदिरा गांधी ने रात 2 बजे टॉर्च की रोशनी में चुनावी सभा को संबोधित किया था। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

ये भी पढ़ें…

मामा राहुल के साथ चल रहे रेहान वाड्रा

राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा लेकर मध्यप्रदेश में दस्तक दे चुके हैं। बहन प्रियंका जहां यात्रा में शामिल हो रही है वहीं मामा राहुल के साथ भांजे रेहान भी यात्रा में नजर आएंगे। प्रियंका बुधवार को परिवार सहित इंदौर आई और यहां से यात्रा के लिए सड़क मार्ग से निकल गई। प्रियंका के साथ इंदौर एयरपोर्ट पर पति रॉबर्ट वाड्रा तो नजर आए लेकिन रेहान नहीं दिखे। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें….

बड़वाह विस क्षेत्र में नहीं होगी राहुल गांधी की सभा

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा 25-26 नवंबर को बड़वाह विधानसभा क्षेत्र से होकर गुजरेगी। इस पूरे विधानसभा मार्ग में केवल सनावद ही एक ऐसा शहर था, जिसमें राहुल गांधी नुक्कड़ सभा करने वाले थे। उनकी यह सभा 25 नवंबर को शाम को होने वाली थी, लेकिन अब यह सभा निरस्त हो गई है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here