HomeWorld Newsरियल एस्टेट से लेकर बैंक तक का कारोबार, यही करप्शन की जड़...

रियल एस्टेट से लेकर बैंक तक का कारोबार, यही करप्शन की जड़ | रियल एस्टेट से लेकर बैंक तक के कारोबार में पाकिस्तानी सेना की गहरी पैठ

Date:

Related stories

महबूबा मुफ्ती का केंद्र को संदेश: कश्मीर का मसला हल नहीं किया, तो कितने भी आरोप लगाते हैं कोई नतीजा नहीं निकलेगा

हिंदी समाचारराष्ट्रीयजम्मू कश्मीर मुद्दे पर महबूबा मुफ्ती बनाम नरेंद्र...

कार्यक्षेत्र3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

पाकिस्तानी सेना के अफसरों की संपत्ति का विवरण है। विश्लेषकों ने इसकी एक ही वजह बताई है- सेना देश का सबसे बड़ा व्यवसायी घराना है। वह धंधा करता है और घूस की चाल चलता है। वहां की संसद में आधिकारिक दस्तावेज पेश करती है, पाकिस्तान सेना 1.5 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का कारोबार करती है।

- Advertisement -

कारोबार में खाद, खाद, बीज, तेल, गैस, बिजली, हवाई अड्डे की सेवा, विमानन भाग, सैन्य जूतों के उपकरण, समान सेवा, गड़बड़ी, बैंक, मीट, धातु, विज्ञापन एजेंसी, चिकित्सा सप्ताह से लेकर वास्तविक कपड़ा तक शामिल हैं। सेना की ओर से यह कारोबार 50 से ज़ोरदार प्राधिकरण या परियोजना के चार नाम आर्मी वेलफेयर ट्रस्ट, मिलिट्री फ़ाउंडेशन, रॉयलन फ़ाउंडेशन और बहरिया फ़ाउंडेशन के अधीन चला गया है।

सेना की एयरपोर्ट सेवा का भी कारोबार है।

सेना की एयरपोर्ट सेवा का भी कारोबार है।

72 सैन्य अधिकारी सस्पेंड
1947 के बाद से अब तक मेजर रैंक से ऊपर के 72 सैन्य अधिकारियों को रिश्वत के मामलों में निलंबित कर दिया गया है। इमरान खान के कार्यकाल में 6 अफसरों पर भ्रष्टाचार के मामलों की जांच जारी है।

2500 करोड़ का घोटाला
हाल ही में सरकार की धोखाधड़ी का खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान सेना ने 2500 करोड़ रुपए का घोटाला किया है। इसमें सेना के बड़े अधिकारियों की मिलीभगत से सैन्य भूमि और छावनियों की जमीनें अपने लोगों को कौड़ियों के बांध में बांध दी गईं।

6 साल में अरबपति बने बजाज

बजवा 29 नवंबर को नाराज हो जाएंगे।  उन्होंने एक बार फिर सेना प्रमुख बनने के लिए मना कर दिया था।

बजवा 29 नवंबर को नाराज हो जाएंगे। उन्होंने एक बार फिर सेना प्रमुख बनने के लिए मना कर दिया था।

पाकिस्तान की सेना के मेजर जनरल कमर जावेद बाजावा की संपत्ति साढ़े चार सौ करोड़ रुपए है। यह उनके 6 साल के कार्यकाल में 6 साल पुराना हो चुका है। पिछले 6 वर्षों में बजाज की प्रतिष्ठा और करीबी लोगों ने कराची, लाहौर सहित पाकिस्तान के बड़े शहरों में फॉर्म हाउस बनाए, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और वाणिज्यिक प्लाजा शुरू किए। इसके अलावा वे विदेश में संपत्ति भी साझा करते हैं। पढ़ें पूरी खबर…

मुशर्रफ ने क्रैंक भ्रष्ट किया
2018 की जांच के मुताबिक तानाशाह जनरल परवेज मुशर्रफ ने राष्ट्रपति बने ही पसंदीदा अधिकारियों को करीब एक लाख करोड़ रुपए के प्लॉट और अन्य फायदे दिए। मुशर्रफ और उनके परिवार के नाम अरबों रुपए की 10 संपत्तियां थीं।

स्विस बैंकों में 25 अफसरों के नाम
क्रेडिट सुइस की अक्टूबर 2021 की रिपोर्ट के मुताबिक, पाक सेना के 25 बेरोजगार अधिकारियों के स्विस बैंकों में खाते हैं। ये 80 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा जमा है। इसमें आईएसआई के पूर्व प्रमुख अब्दुर रहमान खान का खाता भी है। उनके अकाउंट में 15 हजार करोड़ रुपये बताए जाते हैं।

  • पनामा कागजों के अनुरूप विकार ले. जनरल शफात शाह की लंदन में 5,000 करोड़ रु. की संपत्ति है। वे मुशर्रफ के कार्यकाल में दूसरे इन-कमांड अधिकारी थे।
  • पूर्व सेना प्रमुख अशफाक परवेज खाईनी के दो भाई 15,000 करोड़ रुपए के मोटे आवास घोटाले में शामिल थे।
  • आर्मी क्वेटा कॉर्प्स के ले. जनरल सलीम बाजवा ने साइज चेन पापा जॉन्स में परिवार के नाम पर 22,000 करोड़ रु. का निवेश किया था।
  • आईएसआई के पूर्व मेजर जनरल नुसरत के विदेशों में 2,700 करोड़ रुपए की कंपनियां भी सामने हैं।
  • आईएसआई के पूर्व प्रमुख असद दुर्रानी ने 1980 के दशक में अफीम उत्पादन के कारोबार में पाकिस्तान की सेना और आईएसआई के जासूसों को शामिल किया था। बाद में जांच के दौरान असद दुर्रानी के स्विस फायदों में करीब 2,000 करोड़ रुपए की अघोषित संपत्ति मिली थी।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here