HomeWorld Newsरूस की मिसाइलों से समाधान हुई बिजली की आपूर्ति, -20 डिग्री तक...

रूस की मिसाइलों से समाधान हुई बिजली की आपूर्ति, -20 डिग्री तक गिरेगा पारा | रूस यूक्रेन युद्ध: बिजली की स्थिति पर राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की

Date:

Related stories

फिर जहरीली हुई दिल्ली की हवा: रविवार को AQI 400 के पार रहा, कंस्ट्रक्शन पर बैन

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली AQI 400, वायु गुणवत्ता खराब होने पर...

कीव4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

रूस के खिलाफ जंग के बीच अधिकारी के लाखों लोग इस साल कठघरे में ठंड की चुनौती का भी सामना करेंगे। 271 दिनों से चल रहे युद्ध के बीच WHO ने एक चेतावनी जारी की है। इसमें बताया गया है कि यौगिक में चल रही एनर्जी क्राइसिस के कारण यहां ठंड से लाखों लोगों की जान का खतरा है।

- Advertisement -

दरअसल, हाल ही के दिनों में रूस ने इलेक्ट्रिक के कई संबंधों को अनुबंधित किया है। जिसके चलते घरों में बिजली और एनर्जी के दूसरे साधनों की भारी कमी हो जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के क्षेत्रीय निदेशक हैन्स हेनरी क्लुग ने बताया कि अधिकारियों के कुछ हिस्सों से बिजली का गहरा नुकसान होता है। वहीं कुछ पूरी तरह से समाधान हो गए हैं। इससे लोगों की सेहत पर गहरा असर पड़ रहा है।

खार्कीव में बिजली नहीं होने की वजह से गैस की चुजियों से घर और खुद को गर्म करने की कोशिश कर रही बुजुर्ग महिला

खार्कीव में बिजली नहीं होने की वजह से गैस की चुजियों से घर और खुद को गर्म करने की कोशिश कर रही बुजुर्ग महिला

यरेन में एक करोड़ लोग बिना बिजली रह रहे हैं

कीव में एक प्रेस कांफ्रेंस में क्लूग ने यह भी बताया कि वर्तमान कीव में एक करोड़ लोग बिना बिजली के जीने को मजबूर हैं। जबकि 30 लाख लोग ठंड से बचने के लिए अपना घर छोड़ सकते हैं। टाइरेन में ठंड लग सकती है। एक अनुमान के अनुसार इस वर्ष के कई ज़ोफ्रेश का तापमान -20 डिग्री से भी कम हो सकता है। इससे बिना बिजली के नामस्मकिन है।

बढ़ती ठंड के कारण कीव के पास अपने शहर इरपिन को छोड़कर जाने को मजबूर बुजुर्ग व्यक्ति

बढ़ती ठंड के कारण कीव के पास अपने शहर इरपिन को छोड़कर जाने को मजबूर बुजुर्ग व्यक्ति

मेंटल हेल्थ पर भी गहरा असर पड़ रहा है

परमाणु युद्ध में सीधा संबंध हो रहा है ऊर्जा केंद्र के कारण लोगों में तनाव बढ़ रहा है। लोग बिजली कट से परेशान हैं। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, एक ही बार में न्यूरेन के लोगों को कई तरह के संक्रमण का खतरा हो सकता है। जो सटीक की कमी के कारण और गंभीर हो जाएंगे। कोरोना के कारण निमोनिया और सांस से जुड़ी गंभरी बीमारियां विकराल रूप ले सकती हैं। एक आंकड़े में दावा किया गया है कि रूस ने फरवरी से लेकर अब तक एडमिन के 100 से अधिक स्वास्थ्य केंद्र संबंधी समझौते किए हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here