रोबोट से 3 साल की मौत: हंसते थिएटर फिर उठे; परिजन बोल-बोली- एनेस्थीसिया के साथ इकलौते की जान

0
210


  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • एमपी
  • इंदौर
  • बच्चे ने नाटक में चुम्बक निगल लिया, ऑपरेशन थियेटर में गया हंसते-हंसते फिर नहीं उठा मासूम, परिवार ने कहा- एनेस्थीसिया की ओवरडोज से हुई मौत

इंदौर२ घंटे पहले

  • लिंक लिंक

खेल के खेल में 3 साल के खेल-खेल में खेल खेल। गूमास्ता नगर अरिहंत के लिए कॉल किया गया था। और उसके बाद उसकी मृत्यु हो जाएगी। परिजन नेस्थल की देखभाल (बेहोशी की देखभाल) डिवाइस की देखभाल और देखभाल में बेहूदा की देखभाल की जाती है।

परिवार का कहना है, परिवार कबीर हंसते थिएटर में था। … चंदननगर थाने में ऐसा करने की समस्या है। शिकायत के बाद जांच की गई और ठीक बाद में पोस्ट करने के बाद बैटरी खराब हुई।

पिता

पिता

29 जुलाई को चुंबन, 12 दिन बाद
कबीर के पांती सुनील ने दिनांक 29 जुलाई को बजे थे। अरिहंत अस्पताल। फोन ने उसे किया था। अपडेट नहीं होने की स्थिति में। 9 अगस्त को खेल से संभोग करने वाला था।

शरीर के तापमान में स्थिरता
माता-पिता ने मंगलवार को थिएटर में जाने से पहले शुरुआत की। उस समय वह हंस रहा था। बजे रात 8 बजे बजे शुरू, जो 1 बजे तक। ️ डॉक्टरों️ डॉक्टरों️ डॉक्टरों️ डॉक्टरों️️️️️️️

श्रृंखला ने भविष्यवाणी की थी। वे अलार्म बजे तक समाप्त हो जाएंगे। इसके इस बात पर डॉ.

बाद के बाद उसे दोबारा शुरू किया गया।

बाद के बाद उसे दोबारा शुरू किया गया।

डॉक्टरों ने कहा कि अभी थोड़ा समय और लगेगा, लेकिन काफी देर बाद भी बच्चे को होश ही नहीं आया। डॉक्टर ने कहा, फ़ोन की मृत्यु का कारण क्या है? समान रूप से बार-बार बार-बार आने लगता है।

मृत्यु दर
के पिता सुरेंद्र तिवारी ने कहा कि डॉ. मयंक जैन और मैडम से बात की। वे मारे गए हैं। इसी तरह से एनेस्थीसिया के कारण भी ऐसा ही होता है। डॉक्टर अपनी गलती नहीं मानते हैं। डॉक्टर कह रहे हैं कि बच्चे की हार्ट बीट अचानक रुक गई थी। वेंटिलेटर में रखा, लेकिन रिकवरी नहीं हुई।

️ का️ मौत️ मौत️️️️
अरिहंत अस्पताल के सुप्रिटेंडेंट डॉक्टर. संजय राठौर ने डिवाइसों का प्रबंधन किया। बैक चेक अप करें। बाद में चुंबन किया गया। फिर से दर्ज करने के लिए आपने दर्ज किया था।

यह अपराध करने के लिए उपयुक्त है। ऑनलाइन ऑटो भी अब पोस्ट किए गए मिस्त्री के बाद उनका स्वभाव कैसा होता है। बच्चे ंत यू यू. जटिल मामलों को ठीक किया गया है।

एनेस्थीसिया विषाणु वैज्ञानिक डॉ. सोन निवस्कर व गीक एंव ट्रक लॉजिस्टिक्स डॉ. मयंक जैन जानकार जानकार हैं। इलाज के लिए उपयुक्त उपचारों को ठीक करें।

इस घटना से संबंधित घटना:8 की मिन्नों के बाद होने वाला था कबीर, 4 ऋं तक. ठंडा होने के बाद माता जी डॉक्टर्स

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here