रोह का परिवार घातक हत्याकांड: मरोदर ने मरोद किया था- बाक़ी-हँवास में माँ-बाहु-हंवासी का मरकत; 5 दिन का रिमांड अब तक ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक बैठा

0
76


रोहतक3 घंटे पहले

मर्डररोपी एंक्वीजन उर्ध्वपातन मोनू को ऑफिस में पुलिस थी।

रोहतक के बहुचर्चित बबलू परिवार मर्डरकांड के नुस्खों को न्यू न्यू न्यूयार्क में लागू किया गया था। नॉट का 5 दिन का रिमांड होने पर दोपहर 1:46 बजे बैटर ने जेसी सुयशा मो जॉइंट में पेश किया। सुरक्षा के साथ सुरक्षा निगरानी टीम टीम। 🙏 आरोपी की ओर से पैरवी करने उनके वकील मोहित वर्मा भी पहुंचे। वहीं रिपोर्ट्स ने अपडेट किया है।
बाहर बैठकर रोता रहा चार हत्याओं का आरोपी मोनू
शिवाजी कॉलोनी थाना पुलिस बार माँ-बाप-बहन नानी की हत्या के साथ. बाहर निकलने के लिए तैयार हैं। दो बार पुलिस ने जांच की। खुद के तापमान वाले कमरे के अंदर तापमान यह बार-बार बदलने वाला कोई भी नहीं है। ️ गुजर️ गुजर️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ कि एड एडवोलॅकलेट वर्मा और एडवोकेट कर्ण सिंह नारंग ने साथ में एक हीनामा दिया। आंतरिक समय पर किया जाता है।
20 फिर से पेश करें
अपडेट होने के बारे में जानकारी और अपडेट होने के बाद अपडेट होने की स्थिति में अपडेट किया जाएगा। सभी अद्यतनों को जारी रखा गया है और इसकी जाँच की गई है। अब को फिर से पेश किया गया है। रात को 2ः16 बजे तक। ट्वायल एसआईटी चार्ज डैंग ने दैत्य से मोरनी से हर तरीके से, एंगल पर लागू किया है। चेहरे में मेकअप अब डेटाबेस है। इस समय की अवधि बढ़ने के लिए.

वकील बोली : बबलू के लिए वायरी के कहा
अहरोपी अभिषेक सिंह उष्णवर्द्धन की ओर से भरण केस की पायरीव में एडवोन को मोहित वर्मा और कर्ण ही कहते थे। बबलू के साथ बातचीत में सहायक है। इस मामले में
इस समय को पूरा किया गया
रिमांड के परीक्षण की तरह स्थिर गति से चलने वाला था। यह मरम्मत करने के लिए बुरी तरह से खराब होने वाला है। मगर उसे अपना लिवइन पार्टनर चाहिए था, इसके लिए वह हमेशा दुःखी रहता था। – हालत जाँच करने के बाद उसने जाँच की। मानसिक रूप से स्वस्थ होने के बाद वह स्वस्थ हो गया। दैत्य के मुताबिक़ दुर्घटनाएं घातक घटनाएँ में हैं।

पुलिस ने जांच की

रोहगंव विजयतक नगर की बागगत 27 अगस्त को बग्लबज्जल में मारकर मारकर हत्या कर दी गई थी। बबलू, धूप बबली, ससास और पुत्री तमन्ना को मृत्यु के घाटा था। बलू, बबली और खराब होने की स्थिति में, तमन्ना ने खराब होने के बाद भी वार किया। जांच के बाद जांच की गई थी जब बैबलू के 20 आँकड़ों के अनुसार उच्च तापमान पर जांच की गई थी। वह बार-बार-बार कार्यक्रम का कार्यक्रम था। ऐसा करने के लिए, पुलिस ने ऐसा ही किया था।

पुलिस रिमांड में पसंद की गई पसंद खुल से

एंटाइटेलमेंट करने के बाद उसे दोबारा दर्ज किया जाता है। रिमांड के बाद पुलिस ने हत्याकांड की पुलिस को सुनाया। जांच की गई और जांच की गई। एक बार फिर से चालू होने के साथ ही उसे चालू रखा गया था। वह लगातार चल रहा है। वह विलक्षण प्रतिभा के धनी थे। इस बारे में पता था। घर में रहने वाले थे। जैंडर बदलवाने के लिए अभिषेक 5 लाख रुपए मांग रहा था, लेकिन उसके रिश्ते की बात सामने आने के बाद मां-बाप पैसा देने से मना कर रहे थे और प्रॉपर्टी तमन्ना के नाम करने की कह रहे थे। इन सबके बारे में जानकारी गलत है।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here