HomeIndia Newsविश्व की उम्मीदों का केंद्र भारत: पीएम मोदी: विशाखापटनम में टेक्स्ट- विश्व...

विश्व की उम्मीदों का केंद्र भारत: पीएम मोदी: विशाखापटनम में टेक्स्ट- विश्व युद्ध की किताब लिख रहे हैं।

Date:

Related stories

फिर जहरीली हुई दिल्ली की हवा: रविवार को AQI 400 के पार रहा, कंस्ट्रक्शन पर बैन

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली AQI 400, वायु गुणवत्ता खराब होने पर...
  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • नरेंद्र मोदी विशाखापत्तनम विजिट अपडेट; प्रधानमंत्री ने भारत के विकास के बारे में बात की

विशाखापत्तनम5 मिनट पहले

- Advertisement -
- Advertisement -

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को विशाखापत्तनम में कहा कि भारत दुनिया की उम्मीदों का केंद्र बन गया है। भारत के विकास की एक नई कहानी लिख रहा हूँ। जब कई देश आपस में भिड़ रहे हैं तब दुनिया की नजरें भारत पर टिकी हुई हैं। कई देश जरूरी सामान की किल्लत से जूझ रहे हैं, कुछ एनर्जी क्राइसिस से जूझ रहे हैं। हर देश अपनी गिरती कंपनियों को लेकर परेशान है।

- Advertisement -

क्षेत्रों यूनिवर्सिटी इंजीनियरिंग कॉलेज में एक पब्लिक एक्सपोजर को मैसेज करते समय उन्होंने कहा कि भारत कई सेक्टरों में नई ऊंचाईयों को छू रहा है, वह भी ऐसे समय में जब दुनिया के हालात अच्छे नहीं हैं। यह सिर्फ इसलिए पाया गया है क्योंकि भारत अपने नागरिकों की उम्मीदों और सुंदरता को ऊपर-नीचे करने का काम कर रहा है। हमारी हर नीति, हर जजमेंट का मकसद लोगों की जिंदगी आसान बनाना है।

अमृत ​​काल में विकास के रास्ते पर तेजी से बढ़ रहा है भारत
पीएम मोदी ने कहा कि अमृत काल के दौरान भारत के विकास के रास्ते में तेजी आ रही है और जल्द ही देश बनने वाला है। विकास की इस यात्रा के कई आयाम हैं। आम लोगों की जरूरतें और बेहतर और आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण इससे जुड़े हुए हैं।

पीएम ने कहा कि हमने देखा है कि इंफ्रास्ट्रक्चर प्लांट पर अलग-अलग प्रोजेक्ट सोच के कारण देश को कितना नुकसान हुआ है। इसलिए सरकार हमारी एक नई पहल के साथ चल रही है।

पीएम की गुणवत्ता की गारंटी के लिए
अच्छी तरह से मॉनिटर की गई अच्छी तरह से अच्छी तरह से कनेक्टेड नज़र रखने वाला सिस्टम विकसित हो रहा है। इसकी वजह से से न सि सि सि सि सि raumaurauraur तेज तेज तेज तेज तेज हुए हुए हुए हुए हुए हुए हुए हुए तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज तेज

पीएम ने कहा कि हम कभी इसके पहले ऐसे सवालों में नहीं पड़ते कि हमें रेलवे स्टेशन, रोड, पोर्ट या हाईवे बनाना चाहिए या नहीं। हमने कभी-कभी कुछ छुपाया नहीं क्योंकि आपूर्ति श्रृंखला और कई-मॉडल जुड़ती रहती हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here