वृहद कोठों से मेदनी डय़र: स्मृद्धि वृन्दावन में मदीद दी, बैय से बावड़ा कीट को 3 लाख मिठाइयां में

0
28


  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • अदालत में 3 लाख बुजुर्ग उन बच्चों की देखभाल करने के लिए जिन्होंने उन्हें पालने के लिए अपनी जान दे दी

नई दिल्लीएक दिन पहलेलेखक: पवन कुमार

  • लिंक लिंक
स्वस्थ रखने के लिए, इसे खराब होने की स्थिति में रखा गया है।  - दैनिक भास्कर

स्वस्थ्य रखने के लिए, इसे संरक्षित करने के लिए इसे जरूरी बनाया गया है।

देश में बड़ी संख्या में ऐसे लोग थे जो कानूनी रूप से वैध थे। स्वास्थ्य के मामले में तेज है। 18.73 लाख करोड़ के मामले और 6.28 लाख लाख मामले। तीन लाख केस तो ऐसे हैं जिसमें बुजुर्ग गुजारा भत्ता पानेे, अपने ही घर में रहने और बच्चों द्वारा मारपीट के खिलाफ संरक्षण के लिए कोर्ट जाने को मजबूर हुए हैं।

दिल्ली में 10 से संपर्क के 200 से अधिक के बारे में: कॉमरेड नेता एनके सिंह भदौरिया कि कॉर्ट से संबंधित को सम्मान से संबंधित है। व्यवस्था में नियमित रूप से अपडेट होने पर परिणाम मिल रहा है। कुछ ऐसे मामलों में सुधार हुआ है।

पोस्ट करें

सेनियर सिटीजन 2007 हे पहला-अगर संतान गुजर-बसर के लिए खर्च नहीं देते हैं तो बुजुर्ग कानूनन उनसे प्रतिमाह भत्ता लेने के लिए कोर्ट जा सकते हैं। 24-बच्चे को घर से निकाल सकते हैं। ️ ️ इसके️️️️️️️️️️️️️️ है

प्रेसीडेंसी पर आधारित
दिल्ली के शाहदरा में एक ने स्थापना की। नियत समय पर नियत-बहू ने अद्यतन किया। हर महीने खर्चा खर्चा पर खर्च होने पर खर्चा खर्चा पर खर्चा खर्च पर खर्चा खर्च पर खर्च पर खर्च पर खर्च पर खर्च पर खर्च पर हर महीने खर्च पर

पुलिस को निर्देश दिए गए हैं
दिल्ली के करोल बाग में एक बुढ़िया दवा के लिए दवा होगी। आदेश का आदेश दिया गया। आगे बढ़ने के लिए पुलिस ने सख्ती की।

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here