HomeSports Newsसंजू सैमसन और सूर्या को बांग्लादेश ऑस्ट्रेलिया से बाहर रखने पर विवाद,...

संजू सैमसन और सूर्या को बांग्लादेश ऑस्ट्रेलिया से बाहर रखने पर विवाद, एक जाति को प्राथमिकता का आरोप | भारत बांग्लादेश वनडे टीम बनाम बीसीसीआई जातिवादी विवाद सूर्यकुमार संजू सैमसन

Date:

Related stories

स्पोर्ट्स डेस्क4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
- Advertisement -

क्या भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी BCCI रेस देखकर टीम इंडिया में प्लेयर्स का सिलेक्शन करता है? अगले महीने बांग्लादेश दौरे को लेकर तारीख गई टीम को लेकर इस तरह के आरोप बोर्ड पर लगे हैं। शानदार फॉर्म में चल रहे हैं सूर्यकुमार यादव और जीनियस विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन बांग्लादेश में होने वाले ऑस्ट्रेलिया सीरीज के लिए भारतीय टीम में नहीं चुने गए हैं। तब से सोशल मीडिया पर जातिवादी BCCI यानी कि जातिवादी BCCI का ट्वीट कर रहा है।

- Advertisement -

40 हजार लोगों ने #CastistBCCI पर पोस्ट डाली
बांग्लादेश दौरे के लिए टीम इंडिया से सूर्या और सैमसन को बाहर रखने की खबर ही ट्विटर पर प्रशंसकों ने बीसीसीआई को धमकाना शुरू कर दिया। कुछ ही देर में #CastistBCCI ट्वीटिंग हैशटैग बन गए और समाचार लिखे जाने तक करीब 40 हजार लोग इस हैशटैग पर पोस्ट लिख रहे थे।

लगातार फ्लॉप होने पर पंत को क्यों मिल रहा है मौका
ज्यादातर पोस्ट में ऋषभ पंत को लगातार फेल होने के बावजूद टीम इंडिया में मौका दिए जाने का विरोध हो रहा है। पंत व्हाइट बॉल क्रिकेट में अब तक उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाएंगे। उन्होंने अब तक 27 ऑस्ट्रेलिया मैचों में 36.52 के औसत से 840 रन बनाए हैं। टी-20 अंतरराष्ट्रीय में उनका प्रदर्शन और कमजोर भी है। इस तालमेल में उन्होंने 66 मैचों में 22 की औसत से 987 रन बनाए।

विरोध करने वालों का मानना ​​है कि केरल के विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन का दावा पंत की तुलना में ज्यादा मजबूत है। सैमसन ने अब तक 10 मैचों में 73.50 के औसत से 294 रन बनाए हैं। टी-20 इंटनेशनल में सैमसन का रिकॉर्ड भी पंत की तरह कमजोर है। उन्होंने 16 टी-20 में 21 के औसत से 296 रन बनाए हैं। हालांकि, सैमसन को हमेशा भारत के लिए खेलने का मौका नहीं मिला है।

इन-फॉर्म सूर्या को क्रेस्ट देने पर भी दुख होता है
बीसीसीआई का कहना है कि सूर्यकुमार यादव को बांग्लादेश दौरे से आराम मिला है। सूर्या जुलाई से लगातार क्रिकेट खेल रहे हैं और विश्व कप के बाद वे न्यूजीलैंड के खिलाफ भी खेल रहे थे। भास्कर ने जब इस बारे में बीसीसीआई के कुछ अधिकारियों से बात की तो उन्होंने कहा कि वर्कलोड बिजनेस के तहत सूर्या को राहत मिली है। हालांकि, यह फैसला सूर्या के फैंस को रास नहीं आ रहा है। उनका कहना है कि सूर्या को वैसे ही काफी देरी से भारत के लिए खेलने का मौका मिला है। ऐसे में जब वे अच्छी बल्लेबाजी कर रहे हैं तो उन्हें ज्यादा से ज्यादा मैच देना चाहिए।

एक जाति का समर्थन करने का आरोप
जातिवादी बीसीसीआई हैशटैग से लगातार पोस्ट किए गए उनमें से कई बोर्ड में एक जाति (ब्राह्मण) को अधिक तरजीह देने के आरोप भी लगे। वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने अपने पोस्ट में लिखा है कि भारत के 11 खिलाड़ियों में 7 ब्राह्मण हैं। मौजूदा समय में टीम के कप्तान रोहित शर्मा और कोच राहुल द्रविड़ भी ब्राह्मण हैं।

मंडल ने भारतीय क्रिकेट में पिछड़ी जातियों और अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव का आरोप भी लगाया है। इसके समर्थन में उन्होंने एक पोस्ट भी शेयर किया है जिसके अनुसार भारत के लिए अब तक टेस्ट गेम में 302 क्रिकेटर्स में सिर्फ 5% मुस्लिम शामिल हैं। वहीं, अनुसूचित जाति की जातियों को 8% मिला है। भारत की कुल आबादी में मुस्लिम की भागीदारी करीब 15% और अनुसूचित जाति के वर्ग की 25% है।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here