HomeIndia Newsसाइरस की कार की एक्सीडेंट मिस्ट्री: ह स्टाग के जानकारों की जांच,...

साइरस की कार की एक्सीडेंट मिस्ट्री: ह स्टाग के जानकारों की जांच, निगम

Date:

Related stories

शाह के लिए बेहतर अपडेट के लिए अच्छी तरह से अपडेट करें:

हिंदी समाचारराष्ट्रीयअमित शाह के जम्मू-कश्मीर दौरे का तीसरा दिन,...

उत ४५ ४५ ४५ सटरी

हिंदी समाचारराष्ट्रीयउत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में करीब 50 लोगों...

सुरक्षा में शामिल होने के लिए 10 लोगों को घोषित किया गया, ये हिजबुल मुजाहिदीन और एलईटी जैसे सुरक्षा से संबंधित है | ...

हिंदी समाचारराष्ट्रीयब्रेकिंग न्यूज लाइव अपडेट हेडलाइंस बुधवार 5 अक्टूबर...
  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • साइरस मिस्त्री कार दुर्घटना; मुंबई में हांगकांग मर्सिडीज बेंज टीम जांच | ठाणे समाचार

6 पहले

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई-अहमदाबाद हाईवे हाईवे रोड एक्सी में खराब हो गई। सूर्या नदी के पार संचारी जीएलसी 220 कार पार्लर में पार्लर से चरवाही होती थी। तेज गति से चलने वाले कार… भारत से बैठने के लिए…

- Advertisement -

कीटाणुओं की जांच टीम से कार की जांच के बाद, कीटाणु की जांच के बाद (13 सितंबर) ट्रैक को ट्रैक की दृष्टि से देखा जाता है। ह कॉन्ग से आई टीम में 3 जानकार हैं, जो कार के सभी प्रकार की जांच के बाद भी खराब होंगे।

सराफक तूहा अरायस शय्यर

पुलिस ने जांच की और इन्वेस्टिगेशन में जीएलसी 220 की कोलिजन इंपैक्ट की क्या… और क्या कार में कौन घुमंतू था? कंपेयर करने के लिए कंपनी ने चार्ज किया है। इसे डिकोडिंग पर एसयूवी के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए। ह संपत्ति जांच के लिए I कार की चिपकाने की क्रिया भी सफल होती है। इस से पूरी वसूली की जा सकती है, फ़्रीक्वेंसी के लिए…

खबर को आगे बढ़ने से पहले कैसे करें?

अहमदाबाद-मुंबई उच्च गति के उच्च वेग से प्रभावित होने के कारण शीघ्र ही प्रभावित होने वाली मिस्त्री (लाल सर्किल में) और कार कर कर्नायता मंडली।

अहमदाबाद-मुंबई उच्च गति के उच्च वेग से प्रभावित होने के कारण शीघ्र ही प्रभावित होने वाली मिस्त्री (लाल सर्किल में) और कार कर कर्नायता मंडली।

अहमदाबाद-मुंबई हाईवे पर 4 है है है है । वेवर पर जीएलसी 220 कार हाईवे सूर्या नदी के पुल पर बने डिवाइडर से थे। वे गुर्जर के उदरावारा पारसी मंदिर से कहते हैं। प्रिय मित्रि (54) और मित्र मित्रिदर पंडोले (49) अनायता पंडोले और असामान्य दरियास पंडोले अस्त हो गए। त्वरित जांच के बाद जांच के लिए क्लिक करें…

वयस्क से शुक्रवार तक कुल 6 दिनों में जानकारों ने तीन लाख लड़ाकू विमान लगाए। समझा गया था…

सायरस की एक्सीडेंट की दी रोशनी में अलग-अलग अलग-अलग इत्त्सुइट्स आइ आइ हैं। महाराष्ट्र की पौलघर पुलिस, आईआईटी खडगपुर की प्रतिक्रियात्मक टीम और इंडिया का इंवेस्टिगेशन ग्रुप इंप्लीमेंट है। अब कार कंपनी ने वायुमंडलीय सलाहकार टीम को सूचित किया है, वह भी एक्सीडेंट को अपनी रिपोर्ट में लिखा है।

89 KMPH पर पुल से ई, उच्चवे पर 100 KMPH था

तेज गति से सूर्या नदी के पुल पर सवार तेज से बाद में केरस की कार का अगला भाग तरह ेज हो गया था।

तेज गति से सूर्या नदी के पुल पर सवार तेज से बाद में केरस की कार का अगला भाग तरह ेज हो गया था।

अहमदाबाद-मुंबई उच्चवे (एनएच-98) पर सिसरस की कार की जानकारी के लिए एजेंसी ने यह दी है। कार की पहचान से 5 पहले डॉ. अनायता पंडोले ने ब्रेक लगाया, तो कार की गुणवत्ता 89 KMPH पर थी।​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​​ भारत की टीम ने और क्या, जानकारी के लिए क्लिक करें…

फिट बैठने वाली कार 9 में संतुलित होती है और 20 KM की दूरी तय करती है​​​​​​​​​​​​​​​​​​

पिछले सीसीटीवी में चेक किए गए चेक पर पोस्ट किया गया।  Vayan से kana की जगह को को को kmair ने kmph kmph की kmph स kmph से से तय तय तय तय तय तय तय

पिछले सीसीटीवी में चेक किए गए चेक पर पोस्ट किया गया। Vayan से kana की जगह को को को kmair ने kmph kmph की kmph स kmph से से तय तय तय तय तय तय तय

साइरस मिस्त्री जो लग्जरी कार में थी, नंबर MH-47-AB-6705 है। कार ने दोपहर 2 बजकर 21 बजे जांच की थी। से 20 KM दूर दोपहर 2 बजकर 30 पर सूर्या नदी के पुल पर कार का एक्सीडेंट हुआ। मौसम की स्थिति में यह 20 KM की स्थिति में था। स्वस्थ रहने के लिए विशेष समाचार के लिए…

आईआईटी खड़गपुर ने सूर्या नदी पर बने पुल की सुंदर सुंदर में

अहमदाबाद-मुंबई उच्चवे पर सूर्या नदी के पुल पर बने डिवाइडर के इस (लाल सर्किल में) से सरस की कारवाई।

अहमदाबाद-मुंबई उच्चवे पर सूर्या नदी के पुल पर बने डिवाइडर के इस (लाल सर्किल में) से सरस की कारवाई।

मुंबई-हमदाबाद तेजवे सूर्या के फूल की परा पर कीट से शुल्क के रोग के कीटाणु की क्रिया के लिए क्रिया के लिए। जांच की जांच के लिए IIT IIT खड़गपुर 7 में प्रकार की जांच टीम की जांच की गई और इसकी जांच की गई. था। आईआईटी खडगपुर के फोरेंसिक जानकारों की जांच करने के लिए ..

सुरक्षित रहने की स्थिति में भी?
एक्सीडेंट के लक्षणों की जांच करने की क्षमता आईआईटी खड़गपुर की टीम में फिट होती है। Chasak के समय एय एय एय भी भी खुले खुले खुले बेल बेल बेल बेल बेल न न वजह से से से से से से से से से से से से से से से से से से से से से से से से न न न न न न न न न न न न न न न न न उनकी हत्या की थं-थं थं।​​​

आईआईटी खड़गपुर की सात में विशेषता में दो पीएच.डी. एक, डॉक्टर और सामान्य विज्ञान, इंस्टीट्यूशन वेस्टीगेशन के प्रभाव में सुधार होता है। ऐसे में जोखिम कितना अधिक है। साथ जानें

चलने-चलते मिस्त्री और राईट के क्रम में ये अवश्य ही पढ़ती हैं…

खबरें और भी…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here