HomeIndia Newsसीवी आनंद बोस बने पश्चिम बंगाल के नए राज्यपाल: 1977 आवास के...

सीवी आनंद बोस बने पश्चिम बंगाल के नए राज्यपाल: 1977 आवास के आईएएस हैं बोस, केरल सचिव भी रहे

Date:

Related stories

कोलकाताएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
- Advertisement -
ये तस्वीर डॉ.  सीवी आनंद बोस की है, जिन्हें पश्चिम बंगाल का राज्यपाल नियुक्त किया गया है।  - दैनिक भास्कर
- Advertisement -

ये तस्वीर डॉ. सीवी आनंद बोस की है, जिन्हें पश्चिम बंगाल का राज्यपाल नियुक्त किया गया है।

- Advertisement -

डॉक्टर सीवी आनंद बोस को पश्चिम बंगाल का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। राष्ट्रपति के प्रेस सचिव अजय कुमार सिंह ने गुरुवार को नियुक्ति से इस्तीफा दे दिया। इससे पहले जगदीप धनखड़ पश्चिम बंगाल के राज्यपाल थे, जुलाई में उन्होंने उप चुनाव लड़ने के बाद पद छोड़ दिया था। उसके बाद वे चुनाव जीतकर राष्ट्रपति भी बने। जगदीप धनखड़ करीब 3 साल तक पश्चिम बंगाल के राज्यपाल रहे। कई मौकों पर धनखड़ ने राज्य में कानून-व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से जवाब-तलब भी किया। जगदीप धनखड़ के पद पर लौटने के बाद मणिपुर के राज्यपाल एल.ए. गणेशन को पश्चिम बंगाल का अतिरिक्त प्रभार दिया गया था। नए नियत के साथ ही अब गणेशन इस पद से मुक्त हो जाएंगे।

कौन हैं डॉक्टर आनंद बोस
77 साल के डॉक्टर बोस 1977 में गंदगी के शिकार आईएएस हैं। वह लाल बहादुर शास्त्री नेशनल एकेडमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन मसूरी के पहले फेलो भी हैं, जो देश के शीर्ष सिविल सेवकों को प्रशिक्षित करते हैं। डॉ. बोस विशिष्ट जवाहरलाल नेहरू फैलोशिप भी ले चुके हैं। वे केरल में सिविल सेवा के सचिव और शिक्षा, वन-प्रयावरण, श्रम, सामान्य प्रशासन और राजस्व बोर्ड जैसे विभिन्न मंत्रालयों में प्रधान सचिव के रूप में काम कर रहे हैं।

अंग्रेजी, मलयालम और हिंदी में 40 पुस्तकें लिख रही हैं
डॉक्टर बोस एक बेहतरीन लेखक और स्तंभकार भी हैं। उन्होंने उपन्यास, लघु कथाएँ, कविताएँ और निबंध सहित अंग्रेजी, मलयालम और हिंदी में 40 पुस्तकें लिखी हैं। उनकी कुछ पुस्तकें बेस्ट सेलर भी बनीं। डॉ. बोस को कई क्षेत्रों में उनके योगदान के लिए 29 अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिले हैं।

विश्वविद्यालय में 15 स्वर्ण पदक जीते
आवास के क्षेत्र में उनके प्रयासों की मान्यता में यूनाइटेड नेशन ने अपना पहला चार बार ‘ग्लोबल बेस्ट प्रैक्टिस’ के रूप में चुना। भारत सरकार ने उन्हें राष्ट्रीय आवास पुरस्कार से सम्मानित किया था। जब डॉ. बोस विश्वविद्यालय में थे तो उन्होंने 15 स्वर्ण पदक सहित 100 से अधिक पुरस्कार जीते। वे लगातार 3 साल तक केरल विश्वविद्यालय का सर्वश्रेष्ठ वक्ता रहे।

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here