HomeIndia Newsस्वामी अविमुक्तेश्वरानंद बोले- मुस्लिमों की वेशभूषा देख डर लगता है: मेरठ में...

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद बोले- मुस्लिमों की वेशभूषा देख डर लगता है: मेरठ में कहा- धर्म उलटा नहीं रुका तो स्थिति भयानक होगी

Date:

Related stories

मेरठएक घंटा पहले

- Advertisement -

ज्योतिष शास्त्र बद्रीनाथ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा है कि मुस्लिमों की पोशाक देखने से डर लगता है। देश में अगर धर्म-परिवर्तन नहीं रुका तो स्थिति भयानक होगी। आज देश की हालत जिस ओर जा रही है, यह हर किसी के लिए खतरनाक है।

- Advertisement -

- Advertisement -

उन्होंने कहा कि हमारे महत्वाकांक्षी की कामना थी कि ज्यादा बच्चे हों, ये भगवान का वरदान हैं। उसे हम घटा रहे हैं, यह षड़यंत्र है। स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद अपने पट्टाभिषेक के बाद पहली बार मेरठ प्रवास पर पहुंचे हैं। इस दौरान दैनिक भास्कर ने अविमुक्तेश्वरानंद से धर्म परिवर्तन किया, यूपी में मदरसों के सर्वे सहित विभिन्न मुद्दों पर बात की।

खबर में पोल ​​लग गया है। पोल में पूरा लेख पढ़ने से पहले हिस्सा ले सकते हैं…

पढ़िए बातचीत के खास अंश..

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि पीठ श्रद्धेय गुरुजी के कार्यों को लगातार आगे देखते रहेंगे, उसी दिशा में काम करेंगे।  यही हमारी योजना है।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि पीठ श्रद्धेय गुरुजी के कार्यों को लगातार आगे देखते रहेंगे, उसी दिशा में काम करेंगे। यही हमारी योजना है।

सवाल: सुप्रीम कोर्ट ने धर्म रूपांतरण को गंभीर माई कहा है आपकी क्या राय है?

उत्तर: धर्मांतरण से जो स्थिति देश में बन रहे हैं। वह सबके सामने हैं। सरकार और कोर्ट इस पर सोच रहे हैं ये बहुत जरूरी है। सुप्रीम कोर्ट को इस पर स्वत: संज्ञान लेकर निर्देश देना चाहिए कि इस बारे में चीजों को ठीक किया जाए, अन्यथा देश की स्थिति जिस ओर जा रही है, यह हर किसी के लिए खतरनाक है।

सवाल: यूपी में मदरसों के सर्वे पर हल्ला मचा है, क्या सही है?

उत्तर: सोचने की बात यह है कि आज हम उस स्थिति में आ गए कि मदरसों का सर्वे करना पड़ रहा है। यह वर्तमान और पहले की दोनों रचनाओं की विफलता है कि हमें मदरसों के सर्वेक्षण की आवश्यकता है। माताओं में जो घटनाएं हो रही हैं। उन्हें सभी का पता चल जाएगा। मदरसे हैं। क्या हो रहा है। सब सरकार की जानकारी में होना चाहिए। मदरसों से अस्त्र-शस्त्र भी निकलते हैं।

उन्होंने कहा, “मुसलमान की पोशाक देखने से डर लगता है। उनकी पोशाक से लोगों में डर लग रहा है। भारत क्या दूसरे देशों के लोग मुस्लिम की पोशाक से रूबरू हो रहे हैं। मुस्लिम पोशाक दूसरे देशों में जाकर देखें तो उनकी चेकिंग ज्यादा हो जाती है।” की जाएगी, क्योंकि उनकी छवि में कुछ प्रभाव आया है। स्पष्ट है कि उनकी कम्युनिटी के लोगों ने कुछ ऐसा किया है, जिसके कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऐसी छवि बनी हुई है।”

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने दंडिकाश्रम जादूगर के बाग में आश्रम का पुन: निर्माण करने का निर्देश दिया।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने दंडिकाश्रम जादूगर के बाग में आश्रम का पुन: निर्माण करने का निर्देश दिया।

सवाल: बढ़ती जनसंख्या एक बड़ी समस्या है, आप क्या कहते हैं?

उत्तर: बढ़ती आबादी भगवान का वरदान है। जब मनुष्य हर वस्तु में प्रगति चाहता है तो जनसंख्या प्रगति में क्या खराबी है। गरीबी की समस्या नहीं, उस जनसंख्या का श्रम नहीं करना है। इसलिए समस्या हो रही है। सरकार और देश के विद्वान मिलकर ऐसी योजना बनाएं कि जनसंख्या का सदुपयोग हो सके। हमारे छाया की कामना थी कि ज्यादा बच्चे हों, ये भगवान का वरदान हैं। उसको हम घटा रहे हैं, यह भ्रांति है।

  • अब जागीर पढ़ने वाले यूपी में धर्मांतरण के मामले

400 लोगों ने धर्म परिवर्तन का दबाव बनाया

मेरठ की मंगतपुरम स्थिति में धर्म परिवर्तन का दबाव बढ़ा रहे लोगों के बीच पहुंचकर डेली भास्कर ने बात की थी।

मेरठ की मंगतपुरम स्थिति में धर्म परिवर्तन का दबाव बढ़ा रहे लोगों के बीच पहुंचकर डेली भास्कर ने बात की थी।

मेरठ में 28 मिनट में धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया था। मंगतपुरम पहुंचने के करीब 400 लोग एसएसपी ऑफिस पहुंचे थे। शिकायत थी कि उन्हें जबरन हिंदू से ईसाई बनने के लिए मजबूर किया जा रहा है। आरोप लगाया कि कुछ क्रिश्चियन लोगों ने लॉकडाउन में बैठने वालों की मदद की। अब धर्म परिवर्तन का दबाव बना रहे हैं। उनकी पूजा करने और मंदिर जाने से मना किया जा रहा है। कई घरों से हिंदू देवी-देवताओं की फोटो हटवा दी। पुलिस ने मामले में 9 ब्रोकरेज पर मुकदमा दर्ज किया था। (पढ़ें पूरी खबर

गोरखपुर में धर्मांतरण के लिए ब्रेनवाश

गोरखपुर पिपराईच इलाके के महुअंवा खुर्द गांव में ईसाई धर्म से जुड़े कुछ लोगों पर प्रार्थना सभा के चपटे के असाध्य बीमारी को ठीक करने के नाम पर धर्म बदलने का आरोप लगाया गया था। दस्तावेजों की सूचना पर पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में लिया था। उरदर, प्रार्थना करने वालों के पकड़े जाने से नाराज होने वाली महिलाओं ने उन्हें जगाने के लिए शिकायत की थी और उनके साथ घिनौनी हरकत भी की थी। उनका कहना था कि वे लोग मन की शांति, बीमारी से राहत आदि के लिए प्रार्थना करते थे। पढ़ें पूरी खबर

5 मौलानाओं पर हिंदू धर्म की प्रतिकृति का दावा किया जा सकता है

धर्म परिवर्तन मामले में एटीएस की दृष्टी दृष्टी के 5 मौलानाओं पर था। हो सकता है कि ये सभी पाकिस्तान एजेंसी आईएसआई के दखल पर अलग-अलग समूहों में हिंदू धर्म को घुमा रही हों। इन्हीं मौलानाओं में सीएए और एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन के दौरान करण के बाबूपुरवा में दंगों का आरोप लगाया गया था। एटीएस से जुड़े सूत्रों के अनुसार इन पांच मौलानाओं का कनेक्शन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) से भी था। इनमें से एक नाम का खुलासा हिंदू से मुस्लिम बने छात्र आदित्य गुप्ता ने भी किया था।

राशनकार्ड और मकान को धर्मांतरित करने के लिए

मध्यप्रदेश के रतलाम जिले का अंबा गांव। पिछले दिनों यहां 18 मुस्लिमों ने एक साथ हिंदू धर्म अपना लिया था। इस खबर के कारण यह गांव विशिष्ट रूप से दिशानिर्देश में जा रहा है। गोबर, गोमूत्र से स्नान और मुंडन के बाद ये लोग सनातनी हो गए। दैनिक भास्कर ने अपने गांव में पहुंचकर धर्मांतरण के आस-पास की, तो पता चला कि धर्म उलटा के पीछे की वजह गरीबी और भूख है। धर्म बदलने वाली महिलाएं हमसे भी गूँज रही हैं कि राशन कार्ड बनवा दो, घर दिलवा दो। पढ़ें पूरी खबर

यूपी में 7 महीने में धर्मांतरण के 50 दोष दर्ज हुए

एटीएस ने धर्मांतरण मामले में मौलाना उमर गौतम और मौलाना को गिरफ्तार किया था।  (फाइल फोटो)

एटीएस ने धर्मांतरण मामले में मौलाना उमर गौतम और मौलाना को गिरफ्तार किया था। (फाइल फोटो)

यूपी में धर्म उलटा मामला का खुलासा होने के बाद जांच एजेंसियां ​​सतर्क हो गईं। पिछले 7 महीने के अंदर धर्मपत्रिका का रिकॉर्ड देखें तो इस बीच करीब 50 प्रमाणन दर्ज हो चुके हैं। इनमें से सबसे ज्यादा मामले मेरठ और बरेली से सामने आए। मेरठ में इन 7 महीने में धर्मांतरण के 12 मामले दर्ज हुए हैं, जबकि बरेली में 10 एफआईआर हुई हैं। सरकार ने पिछले साल 27 नवंबर को जबरन धर्म परिवर्तन पर रोक लगाने के लिए ‘धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध वीडियो-2020’ लागू किया था। एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि प्रदेश में जबरन धर्म लिप्यंतरण जाने की शिकायत मिलने पर पुलिस तुरंत कार्रवाई कर रही है। पढ़ें पूरी खबर

जबरन धर्म परिवर्तन देश की सुरक्षा के लिए खतरा, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- धर्म रूपांतरण बेहद गंभीर मसला

डर-धमकाकर या लालच देकर धर्म परिवर्तन को सुप्रीम कोर्ट ने गंभीर मामला बताया है। सोमवार को एक याचिका पर सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा कि जबरन धर्म को बदलना न सिर्फ धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार के खिलाफ बल्कि देश की सुरक्षा के लिए भी खतरा हो सकता है। जस्टिस जस्टिस शाह और हिमा कोहली की बेंच ने जबरन धर्मांतरण के खिलाफ केंद्र सरकार को सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया। उसी के साथ कानून की मांग को लेकर दायर याचिका पर 22 नवंबर तक पैरवी करने को कहा है। मामले की अगली सुनवाई 28 नवंबर को होगी। पढ़ें पूरी खबर

​​

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here