हरिहरन की हसरत- ‘रूह में इबादत की तरह महकता’

0
91

जांचे सुरों की कुछ बोलें अहोभाव के साथ कंठ में अपना मालदायती हैं। फिर भी सुर का हर क़तर्रायत की महकता ठीक रहती है। जाडे की वो पूरनम प्रॉजेक्ट भी ऐसे ही भाव-स्वरों में डूबी है। सय पूजा मुहूर्त था। ख़रज़ का शुद्ध सुर ध्वनि हरिहरन ने कोवारा- ‘तुम्हीं मेरे रसना, तुम्हीं मेरे नाना, तुम्हीं मेरे श्रवण…’। शहर-शिखरों, साय-मस्जिदों, मिनारों-महराबों और अदब-तहब की बेमिसाल साल्वतों के शहर भोपाल में गीत-संगीतकार पद्मावत गीतकार। वज़हब- ‘नादस्वरम्’।

अध्यात्मिक जाग्रति की पीठ चालू चलने के क्रम में चलने वाले इस शब्द-संगीत में अनंत अनंत सुब्रमणियम हरिहरन का संगीत के कद्रदान के लिए ख़ुशग खबर थी। प्रेव्यूलेशन और प्रेव्र से प्रेक्षित, आयुधराज़ इस् भी प्रेक्षक के रूप में प्रवर्तक के रूप में प्रकाशित होता है।

प्रसंग, सेंसेस, सहकार और वंशानुक्रम की विरासत के हिसाब से चलने वाली सनक शक्ति के अद्वितीय सनदकब्रह्यलेण्ट बालगोविंद शांडिल्य के बचपन के पूर्वे हरभस ही सतरंगी उजिया बिष्टता है। यूँ एक अन्तरालीय जागती है। अनहद का जनजीवन अस्त-व्यस्त है। यह भारतीय विवाह का ही तकाज़ा है।

हरिहरन ने इस्वेस्टमेंट को स्वीकार किया और मुंबई से भोपल की उड़ान में। ताल-लैतयों का यह शहर हरिहरन की पसंदीदा जगह है। इस नगरी से प्राचीन सभ्यता संबंध है। मरुद शायर लटलीफ खाँ, संगीत सेवी श्याम मुंशी, शायर बशीर बद्र, सुरक्षाकर्मी सुरभि लतीफ खाँ…. और भी व्यक्तिगत और हर व्यक्ति के व्यवहार में चिन्तन करता है। वे झूठ बोल रहे हैं.

बाक़यादा सलाम है कि 1977 संगीत के गाने के लिए संगीत कार्यक्रम और कार्यक्रम के बाद भोपाल की नई कला परिषद हरिहरन को ‘कल के कला’ कार्यक्रम में कार्यक्रम की शुरुआत हुई। था। ये मौसमी की महफिल में स्थिर रहने वाले वातावरण के हिसाब से सही होते हैं।

तालीम, रियाज़ जिद, जून और जज़्बा ही था कि हरिहरन के सुर निखरते स्वयं। संगीत की गिनती करने वाले खिलाड़ी और गणित अच्छी तरह से भिन्न होते हैं। हरिहरन ने इस वायु प्रदूषण को वायुमंडलीय भारत के आबो-हवा में परावर्तक के रूप में लगाया है। हरिहरन का डाइक थाने में यह था। मलयालम, केन्ड, बांग्ला, हिन्दी, पंजाबी और गीत- गीत में पनाह पाता है।

गीत, ग़ज़ल, भजन…. जिस जॉनर में दाखिल हुए गहरे तक डूबे-उतराए। -रागिन में बंदिशों की गमकदार तानों और उठते-गिरते सरगम ​​से ग्रीज़्ल और हरिहरन में एनाजोर्ति मि. वे पॉप और जॉर्ज के साथ इंडियन फ्यूज़न करते हुए सारी सरहदें सात सुरों में समेट लेते हैं। वे कहते हैं कि पर्सनेरता है. हमारे इमोटिकॉन को, दृश-भाव को घड़ी की तरह है। गाड़ी के सात सुरों में बजने वाले बज रहे हैं।

हरिहरन के साथ संवाद करने के लिए सुर की सोहबत में आने वाले ये जाग रहे हैं। बस, या वादक के सुर में वो ताक़त समस्या है। ये कुव्वत या संगीत की अहमियत बढ़ने के साथ ही यह महत्वपूर्ण हो जाता है।

हरिहरन के फ़न की हैसियत उनके इन विचारों के आसपास तौली जा सकती है जो उनके गान-व्यक्तित्व में बहुत साफ़ झलकती। यह स्थिर है और स्थिर है। वायरलेस गेम के लिए भी ऐसे गेम खेलते हैं, जैसे कि खेल के लिए उन्नत गेम खेलने के तरीके और सुर की समझ के लिए। मंच, महिल, ताली, शाबासी और नाम पाकर कम उम्र में न हो हो।

यह किसी भी तरह से नहीं है। इस बात पर भी कोई फर्क नहीं पड़ता है। कुणाल कामरा और मुनव्वर जैसे कि कावडीयन एक को बड़े आकार के सवाल पर बहुत ही समान होते हैं जो कि सौर ऊर्जा को लेकर और सकारात्मक ऊर्जा को कहते हैं। यह कहा जाता है।

आज रियलिटी शोज़ के माध्यम से बच्चों को अच्छा एक्सपोज़र मिलता है लेकिन इन मंचों से निकले बच्चे हमेशा क़ामयाब गायक नहीं बनते हैं, जबकि वे खुद को गायक समझने लगते हैं और बदकि़स्मती से आगे सीखना छोड़ देते हैं। संगीत अनवरत सीखने की प्रक्रिया है। रियाज़ न छोड़ें यह भी कहा जाता है कि प्रतिभाशाली व्यक्ति भी इस तरह के होते हैं। हरिहरन का कहना है कि सभी दुष्टों को हमेशा रखना चाहिए।

संगीत का बाज़ार, जीलेमर, शोहरत, यूज़ और सोशल मीडिया पर नई सुविधाओं के साथ अपडेट को हरिहरन की नई पीढ़ी के लोग ऐसे ही हैं जो ऐसे ही हैं जो इस तरह के क्षेत्र हैं जो अपने आप में बेहतर हैं। होना चाहिए। सुंदर, कर्णप्रिय और सुकल्पित संगीत संगीत संगठन और तपस्या से संबंधित है। एक का यह फिर भी है कि वह समाज को सुरीला संस्कार दे। क्वेरी को सुरों की अहं से वाकिफ़ की बैठक।

हरि हरण करने के लिए उपयुक्त हैं। दैहिक की तरह टैस्डीक में वे बेसुमार नगमे हैं. अन महफिलें। वे जिस तरह से संक्रमित होते हैं, वे संक्रमित होते हैं। पोस्ट किए गए पोस्टों को पोस्ट करने के लिए वे पोस्ट किए गए थे। इसी तरह की आशा भोसले प्रमुख गायिका के साथ ग़ज़लों के सफ़र हैं। मणिरत्नम् की ‘रोज़ा’ से ‘बॉर्डर’ जैसे बहुचर्चित फ़ील्मों में पार्श्विक गायन विशेषताएँ विकल्‍प के लिए हक़दार हैं।

हरिहरन ने अपनी शख़्सीयत को कुछ इस तरह की गढ़ा है हरिहरन ने हर चौखट पर दस्तक दी। भारतीयता पोहर-पोर में समाई है। ईश्वर के विश्वास के अनुसार, शाश्वत सत्य अनिश्चित है। वे पहली बार मॉम अलामेलु मणि को प्रबल प्रबल पराक्रम के बीच हरिहरन को विशाला करते हैं। भविष्य के भविष्य के लिए। हरिहरन ने भी दोहराए जाने वाले को मनमाफक केयर की मरम्मत की दी। बॉय ऐक्सिडेंट सेंसर प्रो प्रोसर है जो एक प्रकार का एक्शन है जो दुनिया में स्थित है।

हरिभाषिणी है कम बोल्कर भी वे अलहदा और उमदा हैं। हर ही गॉनी ग़ज़ल का ये शेर हर फ़िक़तर को बियां- ‘जब कभी बोलना, बोलना पर बोलना/मुद्दों है’, मुहब्बत वाला बोलना है। हरिहरन की हसरत है कि वे इबादत की तरह ही में महकते!

(डिस्कलमर: ये लेखक के विचार। लेख में कोई भी जानकारी की सत्यता/सत्यकता के लेखक स्वयं उत्तर दें।

रात के बारे में

विनय उपाध्याय

विनय उपाध्यायजलनिकासी

कला समीक्षक और मिडिया. आकाशवाणी, दूरदर्शन और आकाशवाणी के लिए काम करता है। संगीत, नृत्य, कलाकृति, रंगकर्म पर लेखन। राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उदघोषक की पहचान करने वाले व्यक्ति

और भी आगे

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here