HomeIndia Newsहिंदू देवी-देवताओं के खिलाफ शपथ:पहले दूल्हा-दुल्हन का धर्म परिवर्तन हुआ; फिर...

हिंदू देवी-देवताओं के खिलाफ शपथ:पहले दूल्हा-दुल्हन का धर्म परिवर्तन हुआ; फिर शपथ ली- ब्रह्मा, विष्णु, महेश को नहीं मानेंगे

Date:

Related stories

बंगालियों परेश के बयान, ममता के कहने का तंज: अभिषेक बनर्जी बोले- बीजेपी नेता सुवेंदु ने किया विरोध तो ED-CBI नोटिस भेजेंगे

हिंदी समाचारराष्ट्रीयपश्चिम बंगाल टीएमसी अभिषेक बनर्जी बनाम बीजेपी शुभेंदु...

भरतपुर15 मिनट पहले

- Advertisement -

सामूहिक विवाह सम्मेलन में करवा ने 11 जोड़ों का धर्म परिवर्तन किया, धार्मिक महिलाओं को लेकर किसी ने शपथ नहीं ली।

- Advertisement -

दिल्ली में बौद्ध धर्म के एक मामले में हिंदू देवी-देवताओं को लेकर आपत्तिजनक शपथ लेने के मामले में दिल्ली की केजरीवाल सरकार में रहे मंत्री राजेंद्र पाल गौतम को मंत्री पद जाना पड़ा था। वैसी ही शपथ रविवार को भरतपुर में भी गूंजी। यहां भी हिंदू देवी-देवताओं को लेकर शपथ दिलाई गई। विश्व हिंदू परिषद ने इस शपथ पर आपत्तिजनक दर्ज कर आंदोलन करने की चेतावनी भी दी है।

- Advertisement -

भरतपुर के कुम्हेर कस्बे में रविवार को संत रविदास सेवा समिति की ओर से सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित किया गया था। समिति की ओर से यह पिंडली प्रतिष्ठान था। सम्मेलन में 11 जोड़ों का सामूहिक विवाह हुआ। इससे पहले सभी का धर्म परिवर्तन करकर बौद्ध धर्म ग्रहण किया गया। इसके बाद सभी जुड़ावों को 22 शपथ दिलाई गई। 22 शपथ हिंदू धर्म का त्याग द्वारा बौद्ध धर्म दत्तक की थी।

नवविवाहित जोड़ों को रविवार को भरतपुर के कुम्हेर कस्बे में शपथ दिलाई।  तस्वीर उसी की है।

नवविवाहित जोड़ों को रविवार को भरतपुर के कुम्हेर कस्बे में शपथ दिलाई। तस्वीर उसी की है।

समिति की ओर से यह सामूहिक विवाह सम्मेलन कुम्हेर कस्बे के एक निजी विवाह गृह में जुड़ा हुआ था। विवाह सम्मेलन में डीग कस्बे के अधिकारी भी मौजूद हैं। विवाह कार्यक्रम के बाद जब सभी अधिकारी वहां से चले गए तो प्रबंधकों ने 11 जोड़ों को 22 शपथ दिलवा दी।

समिति की ओर से यह सामूहिक विवाह सम्मेलन कुम्हेर कस्बे के एक निजी विवाह गृह में जुड़ा हुआ था।

समिति की ओर से यह सामूहिक विवाह सम्मेलन कुम्हेर कस्बे के एक निजी विवाह गृह में जुड़ा हुआ था।

इस बारे में जब समाज प्रतिनिधि शंकर लाल बौद्ध से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सामूहिक विवाह के जरिए सोशल मैसेज किया गया है। लोग शादी के नाम पर अनाप-शनाप पैसे खर्च करते हैं। एक शादी में जितना खर्च होता है, उससे कम खर्च में यहां 11 शादियां कर दी गई हैं। झुर्रीदार एक-बान और शानो-शौकत के लिए काल्पनिक लोग काल्पनिक शादियाँ करते हैं और महंगे बैंड बजवाते हैं। झिलमिलाहट में चमकते तारों को बांध दिया जाता है। इस तरह के एडंबर को रिटर्न के लिए सामूहिक विवाह सम्मेलन किए जाते हैं।

शंकर लाल ने कहा कि ये समाज की 22 प्रतिज्ञाएं हैं। ये प्रतिज्ञाएं बौद्ध धर्म का कवच हैं। ये प्रतिज्ञाएँ इसलिए जाती हैं ताकि तथाकथित लोग अपने निजी स्वार्थ के लिए बौद्ध धर्म में मिलावट न कर सकें। बौद्ध धर्म को शुद्ध रखने के लिए ये प्रतिज्ञाएं दिखाई जाती हैं।

कार्यक्रम में नवविवाहित जोड़ों को शपथ दिलाते हैं।

कार्यक्रम में नवविवाहित जोड़ों को शपथ दिलाते हैं।

शंकर लाल ने कहा कि संत रविदास सेवा समिति की ओर से इस तरह की स्थिति रखते हैं। अलवर में भी इस तरह का खुलासा हुआ है। भरतपुर में यह छठा कार्यक्रम लालचंद पंगोरिया का धोखा है। पैंगोरिया संत रविदास सेवा समिति के अध्यक्ष और संरक्षक हैं। यह पूरे समाज के सहयोग से सामने आया है। यहां जाति बंधन नहीं है। सर्व समाज के विवाह की स्थिति भी बन जाती है। हम संत रविदास, भगवान बुद्ध और बाबा साहेब के कहने के तरीके पर चल रहे हैं ही इस तरह की पहचान रखते हैं।

शंकर लाल ने बताया कि यहां सामूहिक विवाह के लिए रजिस्ट्रेशन के लिए 11 हजार रुपये लिए गए थे। पंजीकरण इसलिए ताकि इस कार्यक्रम में युवा शामिल हों इसकी ग्रेब्रिटी को समझें। रजिस्ट्रेशन के लिए राशि लीज से कई गुना ज्यादा नए जोड़ों को घरेलू सामान सामान दिया जाता है। नवविवाहित जोड़ों को अपनाया जाता है, धब्बे, कपडे, कुरसी, डबल बेड आदि सामान्य कन्या दान स्वरूप दिया जाता है।

संत रविदास सेवा समिति की ओर से सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित किया जाता है।  इसमें नवविवाहित जोड़ों को अपनाया जाता है, धब्बे, कपडे, कुरसी, डबल बेड आदि सामान्य कन्या दान स्वरूप दिया जाता है।

संत रविदास सेवा समिति की ओर से सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित किया जाता है। इसमें नवविवाहित जोड़ों को अपनाया जाता है, धब्बे, कपडे, कुरसी, डबल बेड आदि सामान्य कन्या दान स्वरूप दिया जाता है।

यह गलत, विरोध करेंगे- विश्व हिंदू परिषद

वर्ल्ड हिंदू काउंसिल के भरतपुर के जिला अध्यक्ष लाखन सिंह ने कहा कि यह बहुत ही गंभीर मामला है। इस कार्यक्रम में कुम्हेर डीजी के अधिकारी भी मौजूद रहे। उनके जाने के बाद सार्वजनिक कार्यक्रम में खुले मंच से शपथ शपथ ली। यह गलत है। यह देश की अखंडता के लिए खतरा है। हम सख्त शब्दों में इसका विरोध करते हैं। विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष होने के संबंध में मैं अपील करता हूं कि प्रशासन इस ओर ध्यान दे। वरना हम अटकेकर कार्रवाई करेंगे, विरोध करेंगे तो ऐसे लोग ही जिम्मेदार होंगे।

उरद्र, भरतपुर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष यशवंत सिंह फौजदार ने भी शपथ ली, जाने को कानून के खिलाफ बताया है।

भरतपुर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष यशवंत सिंह फौजदार का कहना है कि इस तरह से धर्म का बदला नहीं लिया जा सकता है।

भरतपुर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष यशवंत सिंह फौजदार का कहना है कि इस तरह से धर्म का बदला नहीं लिया जा सकता है।

पहले भी इस तरह के शपथ पर हो जाएं चौड़ा
हिंदू देवी-देवताओं को लेकर आपत्तिजनक इस शपथ को लेकर विवाद होते हैं। दिल्ली की चार्जर सरकार के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने 5 अक्टूबर 2022 को खुद लोगों को इस तरह की शपथ ली थी। इसके बाद उन्हें मंत्री पद छोड़ना पड़ा। इसके अलावा हाल ही में छत्तीसगढ़ के राजनंदगांव के कांग्रेस मेयर हेमा देशमुख पर हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करने का आरोप लगाते हैं। देशमुख पर 7 नवंबर 2022 को बौद्ध समुदाय के एक धर्म परिवर्तन के आयोजन के दौरान हिंदू देवी-देवताओं को लेकर आपत्तिजनक शपथ लेने के आरोप लगे थे। इससे पहले कर्नाटक कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सतीश जारकिहोली ने हिंदू शब्द को अपमानजनक बताया था।

यह भी पढ़ें…

छात्र को इतना खींचो कि रीढ़ की हड्डी टूट जाए: पिता बोले- फ़र्स्ट पर गिरकर गर्दन पर पैर रख दिया, फुटबॉल की तरह उसे लातें मारी

सरकारी स्कूल के शिक्षक ने छात्र को इतना परेशान किया कि उसकी रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर हो गया। छुट्टी के बाद छात्र घर पर सन्देश देता है और वह परिजनों को शिक्षकों के पीटने की बात बताता है। बच्चे ने कमर में दर्द होने की बात कही तो परिजन उसे निजी अस्पताल ले गए, जहां उसका इलाज किया गया। अब उसके टोंक के सादात अस्पताल में भर्ती होने का आरोप लगाया गया है। शिक्षा विभाग ने शिक्षकों को सपेंड कर दिया है। मामला टोंक जिले के बना थाना क्षेत्र का है। (पूरी खबर पढ़ें)

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here