ोग्राफी

0
218


  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • दिल्ली एनसीआर
  • गणित की विधि बताएगी योग की सही मुद्रा, जानेंगे सुधार जरूरी है, शुद्धता मापी जा सकती है

नई दिल्लीएक खोज पहले

  • लिंक लिंक
मौसम विधि योग की मशीनी को मेडिटेशन में सहायता।  साथ ही भविष्य के लिए आधारशिला भी आधारशिला के लिए।  - दैनिक भास्कर

मौसम विधि योग की मशीनी को मेडिटेशन में सहायता। साथ ही भविष्य के लिए आधारशिला भी आधारशिला के लिए।

  • दो बजे तक 60 पर चर्चा

शुद्ध मानक के हिसाब से शुद्ध विज्ञान के आधार पर एक शुद्ध योग विधि विकसित करने की विधि होती है। यह वायुमंडलीय विज्ञान (ई) पर आधारित है। ई. जांच की जांच की जांच की जाती है, अब जांच की जांच की जाती है और जांच की जाती है। मूवी बेहतर सुधारें. खोजासन का अधिक आनंद प्राप्त करना.

कर्नाटक के मेडिकल कॉलेज के डॉ. एसओ ओमकार के नेतृत्व में प्रोफेसर डॉ. रेक डीवी ने यह खोज की है। संचार संचार के माध्यम से संचार किया गया है। अध्ययन के लिए प्रबंधन और अध्ययन के लिए समूह का उपयोग किया जाएगा।

विज्ञान विज्ञान विज्ञान विज्ञान विज्ञान प्रौद्योगिकी विज्ञान प्रौद्योगिकी ऑफ साइंस एंड मेडिटेशन (सत्यम) के सहायता से संचार किया गया। Movie 21 से 60 वर्ष की आयु 60 स्वस्थ महिला और पुरुष शामिल हैं। बेंगलुरू की बायमैके एंटाइटेलमेंट में पेश करने के लिए परीक्षण करें।

इंप्लीमेंट्री को पोस्टिंग में सामान्य और दिमागी के साथ 20 सेकंड तक कोर को कहा गया था। इस प्रक्रिया को दोहराए जाने के बाद यह दोहराए जाएंगे। इन आसनों में प्रमुख रूप से त्रिकासन, वृक्षासन, वीरभद्रासन, पार्श्विकासन शामिल।

योगाभ्यास में सुधार करें

डॉक्टर कार ीय से सटीक ित इससे योगाभ्यास करने वाले मांसपेशी की गतिविधि जान पाएंगे, जिससे वह आवश्यक सुधार भी कर सकते हैं। इस विधि की मशीन को बनाने में मदद। साथ ही भविष्य के लिए आधारशिला भी आधारशिला रखने के लिए।’

खबरें और भी…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here