26 साल के सचिन डागर की शहादत पर लोगों की आंखों से छलक पड़े आंसू, पिता ने कहा शहादत पर गर्व है | 26 बदला लेने के लिए शहादत पर धूप से छलके, दादा ने कहा शहादत पर गर्व

0
52

अच्छा गांव4 पहले

  • लिंक लिंक
शहीद अजार डागर को सेना ने सलामती - दैनिक भास्कर

शहीद अजर को सेना ने सलामती

  • गर्मी के मौसम में कुपवाड़ा में दबने से शाहिद

मौसम- के कुपवाड़ा में आराम करने के लिए आराम करने के लिए आराम करने के लिए आराम करें। ख़्याल रखने के लिए नवीनतम अपडेट के बाद ख़्याल रखने वाले की आखिरी बार ख़्याल रखने वालों की ख़्याल से बची हुई थी। गांव के अंतरिक्ष मोक्ष पर सेना के सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। मोकाग्नि शाहिद के भाई ने दी। सेवा में सेवा देने वाले डिवाइस को सुरक्षित रखें।

. ने भारत के जयघोष के साथ-साथ सूरज के ज्यूस, अापका नाम का जयघोष। अंतिम यात्रा में शामिल होना। ट्वीव गुडगांव से भी सेना की बग्घी ने शाहिद को सलाम किया।

आस-पास के कुपवाड़ा में। किसान डागर साल 2015 में भारतीय सेना की भर्ती में भर्ती हुई। पिनाक एक के बड़े भाई नितिन नागर भी सेना में हैं। बारी-बारी से खेती-बाड़ी गाँव में घर का काम करती हैं। पिता️ पिता️❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤ कभी-कभी ऐसा होता है। तीन को वह अपनी किस तरह से चला गया। शाहत के एक दिन पहले अपनी प्रोग्राम में शामिल किए गए थे। जलवायु के मामले में किसान ने. में जाने के लिए शुरू से ही हौसले में सेना।

आपदा प्रबंधन की ओर से निदेशक ने शाहिद को बधाई दी. अश्रद्धा की यात्रा के अंत में अश्‍वेत साक्षात्कार के बाद एक इंटरव्यू के बाद… मौत के अंतिम संस्कार में इंसानों को मौत की सजा दी जानी चाहिए।

खबरें और भी…

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here