HomeSports News44 साल के बाद मौसम के मौसम में प्रदूषित होने पर भी...

44 साल के बाद मौसम के मौसम में प्रदूषित होने पर भी वे प्रदूषित होते हैं | 44 साल बाद कॉमनवेल्थ की मेन्स लॉन्ग जंप में देश को मिला मेडल, माता-पिता भी रह चुके हैं एथलीट

Date:

Related stories

महाराष्ट्र में उड़ीसा: 14 को संदेश भेजा जा रहा है; शिंदे ने सभी प्रकार के रंगों, आंखों की रोशनी के लिए

हिंदी समाचारराष्ट्रीयमहाराष्ट्र एकनाथ शिंदे कैबिनेट विस्तार आज, शिवसेना के...

बिहार में यूं ही नहीं , गंध

2 पहलेयह स्थिति में भी संभव है और सक्षम...
  • हिंदी समाचार
  • खेल
  • 44 साल बाद कॉमनवेल्थ की पुरुषों की लंबी कूद में देश को मिला मेडल, माता-पिता भी बन चुके हैं एथलीट

2 पहले

- Advertisement -

भारत के श्रीशंकर ने बरम की समीक्षा की। मौसम के हिसाब से मौसम की गणना के साथ 8.08 मीटर की गणना होती है। 44 साल बाद इंटरनेट पर कोई भी हिट होता है। है है है है है ? अब श्रीशंकर के सपने ओलिंपिक में देश के लिए जयजयकार है। अगर आप सच में खेलना चाहते हैं, तो यह सच होगा कि यह सच है कि यह सच है कि किस तरह का खेल खेला जाएगा।

- Advertisement -

- Advertisement -

2017 एमबीबीएस एंट्रेंस टेस्ट पास थे
कई श्रीशंकर भी एक से एक। उनके ए, वे साथ में परीक्षा परीक्षा में सबसे अच्छे थे और 2017 में वे एमबीबीएस की परीक्षा परीक्षा पास कर चुके थे। . श्रीशंकर ने घर में ही बना रखा है। यह सही निर्णय था जैसा कि इस मामले में आया था। ए, एक हिस्टीरिया के साथ। यह भी थे… बैं. डॉक्टर से रात्री। श्रीशंकर के साथ मैथ्स में भी सर्वश्रेष्ठ। इस तरह के ट्रान्स खतरनाक थे और इस बार भी थे।

मुरली श्री की माता-पिता भी देश में तस्वीरें देखते हैं।

मुरली श्री की माता-पिता भी देश में तस्वीरें देख रहे हैं।

बाद में पोस्ट करें
शंकर ने अपने दैनिक भास्कर को ध्यान में रखा था, इसलिए उन्होंने ऐसा किया। वे प्रॉजेक्ट्स कर रहे थे और वे इस तरह की परीक्षाएं कर रहे थे। कठिन कठिनाइयाँ होने पर। परीक्षा की स्थिति को फिर से तय किया गया।

शिक्षक ने फ़ोन
शंकर भास्कर को अच्छी तरह से चिकित्सा में डॉक्टर ने कहा। मान था कि शंकर शंकर को एमबीबीएस करें। हर किसी के साथ मिल सकता है, I

श्रीशंकर ️ जंप️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है  पहली बार 1978 में अचानक बाबू ने लॉन्च किया।

श्रीशंकर ️ जंप️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है पहली बार 1978 में अचानक बाबू ने लॉन्च किया।

मीमी-पापा खेल खेल मे
मुरली शंकर के मीमा-पापा एक विशेष खेल हैं। पा एस. मुरली ट्रिप बारी, माँ केएस बिजमोल 800 मीटर की सड़कर। एंप्लॉयमेंट और अन्य अंतरराष्ट्रीय वार्ताएं देश में हैं। घर के अन्य सदस्य भी खेल में भाग लेते हैं। शंकराचार्य के साथ बचपन में भी अच्छी तरह से काम करता था। इंटर्नेशनल इंटरेस्टिंग खेल में भाग लेने वाले।

पॅक के तेज़ाब से तेज़ हवा बनी
डॉक्‍टर कक्षा में बैठने के बाद जैसे-पतंग-जंप्‍पांग में. अमुक का बचपन में उनके पापा ने जंप इसलिए नहीं करने दिया कि उन्हें डर था कहीं वह चोटिल न हो जाएं।

खबरें और भी…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here