HomeSports News9 साल तक घर नहीं आए कार्तिकेय, मुंबई IPL में फिर हुआ...

9 साल तक घर नहीं आए कार्तिकेय, मुंबई IPL में फिर हुआ सिलेक्शन | कांस्टेबल के पिता बोले- कार्तिकेय क्रिकेटर बनने की जिद में 9 साल तक घर नहीं गए

Date:

Related stories

कटल के बाद सैनिक का शव पेड़ पर लटकाया, लोगों से कहा- जनाजे में शामिल न हों | पाकिस्तान तालिबान | तालिबान...

पेशावर2 मिनट पहलेकॉपी लिंकपाकिस्तान सरकार और टीटीपी (तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान)...

एमसीडी चुनाव के नतीजे आज: 42 चुनाव पर वोटों की गिनती होगी, अर्ध सैनिक बलों की 20 कंपनियां

हिंदी समाचारराष्ट्रीयदिल्ली एमसीडी चुनाव के नतीजे आज आएंगे: 42...

अक्षर को मिल सकता है मौका; देखें दोनों टीमों की संभावित खेल-11 | भारत बनाम बांग्लादेश दूसरा वनडे लाइव स्कोर अपडेट विराट...

मीरपुर4 मिनट पहलेभारत-बांग्लादेश ऑस्ट्रेलिया सीरीज की दूसरी प्रतियोगिता बुधवार...

एशिया के सबसे बड़े दानवीरों में 3 भारतीय: फोर्ब्स की लिस्ट में अडानी टॉप, 60 हजार करोड़ रु. दान दिया

हिंदी समाचारराष्ट्रीयफोर्ब्स परोपकार सूची; फोर्ब्स एशिया हीरोज; ...

कांग्रेस की राजनीति: भारत जोड़ो यात्रा कोटा पहुंचें, कठपुतली नचा रहे हैं राहुल

एक मिनट पहलेकॉपी लिंककांग्रेस का राज तो ज्यादा राज्यों...

झांसीएक घंटा पहले

- Advertisement -

उत्तर प्रदेश के कुमार कार्तिकेय का IPL में फिर से स्पिन का जादू देखने को मिलेगा। आईपीएल-2023 के लिए प्लेयर्स की रिटेंशन लिस्ट जारी हो गई है। इसमें मुंबई इंडियंस ने कुमार कार्तिकेय को टीम का हिस्सा बनाया है। पिछले आईपीएल में उनकी खरीदारी नहीं की गई थी। इस बीच आईपीएल में अरशद खान के चोटिल होने से उन्हें टीम में जगह मिली।

- Advertisement -

- Advertisement -

तब वे पहले ही मैच में किफायती गेंदबाजी की और अपनी टीम को पहली जीत मिली थी। आईपीएल के चौथे मैच में 5 विकेट लिए थे। वे आर्म्स स्पिन समुद्र छोड़ गए हैं। उनके पिता श्याम नाथ सिंह यूपी पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल हैं। वह अभी झांसी में पोस्टेड हैं। दोनों बार कार्तिकेय को बेस प्राइस पर खरीदा गया। यानी इस बार भी उन्हें 20 लाख रुपए मिलेंगे।

कुमार कार्तिकेय ने दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए बताया कि IPL के बाद काफी निखर आया। कॉन्फिडेंस लेवल बढ़ा। अब अगले आईपीएल में और अच्छा प्रदर्शन करेंगे। मेरा सपना है कि टीम इंडिया के लिए खेलूं।

  • आगे बढ़ने से पहले कुमार कार्तिकेय के संघर्ष की दिलचस्प कहानी पढ़ें..
मुंबई इंडियंस ने आईपीएल 2023 के लिए प्लेयर्स की लिस्ट जारी की है।  इसमें कुमार कार्तिकेय भी हैं।

मुंबई इंडियंस ने आईपीएल 2023 के लिए प्लेयर्स की लिस्ट जारी की है। इसमें कुमार कार्तिकेय भी हैं।

2022 में आईपीएल की शुरुआत की

2022 के आईपीएल में कुमार कार्तिकेय सिंह के नाम जारी हो रहे हैं। उन्होंने मुंबई इंडियंस की ओर से राजस्थान रॉयल के खिलाफ शुरुआत की। 4 ओवर की गेंदबाजी में सिर्फ 19 रन देकर संजू सैमसन का कीमती विकेट हासिल किया था। कार्तिकेय ने 9 साल तक घर से दूर छोटी-मोटी नौकरी की और फाइनल में अपना सपना पूरा कर दिखाया।

माता-पिता की पुकार भी कर दी अनसुनी

क्रिकेटर बनने की उम्मीद में कार्तिकेय 9 साल तक घर नहीं गए थे। माता-पिता ने फोन कर बेटे से लौटने का कहा, लेकिन कार्तिकेय इरादे के पक्के थे। बाएं हाथ के इस स्पिनर ने आईपीएल में डेब्यू के बाद बताया, ”मैंने सोच रखा था कि जिंदगी में कुछ हासिल करने के बाद ही घर लौटेंगे।” आईपीएल खत्म होने के बाद कार्तिकेय अपने माता-पिता से मिलने घर गए थे।

2022 के आईपीएल में कार्तिकेय ने मुंबई की तरफ से बॉलिंग की थी।  अपने पहले ही मैच में संजु सैमसन का विकेट लेने के बाद इस अंदाज में उन्होंने अपनी खुशी का इजहार किया था।

2022 के आईपीएल में कार्तिकेय ने मुंबई की तरफ से बॉलिंग की थी। अपने पहले ही मैच में संजु सैमसन का विकेट लेने के बाद इस अंदाज में उन्होंने अपनी खुशी का इजहार किया था।

किस्मत से मिला मौका

कार्तिकेय सिंह 28 अप्रैल को मुंबई इंडियंस में रिप्लेसमेंट प्लेयर के तौर पर जुड़े थे। उन्हें बाएं हाथ के पेसर मोहम्मद अरशद खान के चोटिल होने की वजह से टीम में मौका मिला। कार्तिक को 20 लाख रुपए के बेस प्राइस पर जोड़ा गया। इस युवा खिलाड़ी ने अब तक 9वीं कक्षा, 19 लिस्ट-ए और 9 टी-20 मैच खेले हैं, जिनमें 35, 18 और 10 विकेट चटकाए हैं।

कार्तिकेय यूपी के सुल्तानपुर में पैदा हुए हैं। कार्तिकेय घरेलू क्रिकेट मध्य प्रदेश की तरफ से खेलते हैं, जबकि उनका छोटा भाई उत्तर प्रदेश की जूनियर टीम का हिस्सा है।

पिछले आईपीएल में कुमार कार्तिकेय ने 4 मैचों में 5 विकेट लिए थे।  इससे वो काफी हद तक दिशानिर्देश में रहे थे।

पिछले आईपीएल में कुमार कार्तिकेय ने 4 मैचों में 5 विकेट लिए थे। इससे वो काफी हद तक दिशानिर्देश में रहे थे।

गौतम को जो तराशा, वहां भी निराशा मिली

कार्तिक के लिए आईपीएल तक पहुंचने का सफर आसान नहीं रहा। उनके क्रिकेट खेलने की शुरुआत आज से हुई थी। पर यूपी से खेलने के दौरान उन्हें सफलता नहीं मिली तो दिल्ली चले गए। यहां उन्होंने गौतम, गंभीर, अमित, मिश्रा जैसे खिलाड़ियों को तराशने वाले संजय भारद्वाज की अकादमी में आज तक याद किया। वहां पर उम्मीद के मुताबिक करियर ग्राफ ऊपर नहीं जा सका।

इसके बाद कार्तिकेय ने मध्य प्रदेश का रुख कर लिया। यहां उन्हें शहडोल संभाग की अंडर-23 टीम से खेलने का मौका मिला। धीरे-धीरे उन्होंने मध्य प्रदेश की रणजी टीम में जगह बनाई। नीलामी से पहले मुंबई इंडियंस ने उन्हें मुक़दमे के लिए बुलाया था, लेकिन मुख्य दस्ते में शामिल नहीं हुए। अरशद खान के चोटिल होने के बाद उन्हें मुंबई ने मौका दिया।

ये फोटो रणजी मैच में चैंपियन बनने के बाद है।  कार्तिकेय 6 मैच में 32 विकेट लेकर अपनी टीम के सबसे सफल समुद्र रहे।

ये फोटो रणजी मैच में चैंपियन बनने के बाद है। कार्तिकेय 6 मैच में 32 विकेट लेकर अपनी टीम के सबसे सफल समुद्र रहे।

आईपीएल के बाद मध्य प्रदेश को रणजी चैंपियन बनाया गया

पिछले आईपीएल में अपनी छाप छोड़ने के बाद कार्तिकेय मध्य प्रदेश की टीम से रनजी खेले। कार्तिकेय की विशेषता मध्य प्रदेश में पहली बार रणजी चैंपियन बनी। 6 मैच में 32 विकेट लेकर अपनी टीम के सबसे सफल समुद्र रहे। पूरे टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा विकेट लेने में वे दूसरे नंबर पर थे।

कार्तिकेय ने बताया, ”मैं मुस्तफा अली ट्रॉफी भी खेली है। इसमें 5 मैच में 5 या 6 विकेट लिए थे। यह ट्रॉफी वैसी नहीं गई, जैसा मैं चाहता था। मगर ठीक था। फिर दिलीप ट्रॉफी खेली। एक मैच में 8 विकेट के लिए। अब तक 13 रणजी मैच में 63 विकेट लिए हैं।”

अभी मुंबई में चल रही विजय हजारे ट्रॉफी में कार्तिकेय मध्य प्रदेश की तरफ खेल रहे हैं। अभी तक खेले गए दो मैचों में एक विकेट ले चुके हैं। एक टीम को हार का सामना करना पड़ा, जबकि दूसरे मैच में टीम जीत गई। आज यानी गुरुवार को कार्तिकेय की टीम का मैच है।

कुमार कार्तिकेय के प्रदर्शन को देखकर सचिन और जहीन खान ने अपनी बहुत उम्मीद की थी।

कुमार कार्तिकेय के प्रदर्शन को देखकर सचिन और जहीन खान ने अपनी बहुत उम्मीद की थी।

जुड़वाँ टाइप्स, जहीर खान ने की एडगर

कुमार कार्तिकेय कथन हैं, ”अच्छे स्तर पर खेलने के बाद थोड़े परिवर्तन आ जाते हैं। बड़े खिलाड़ियों के साथ खेलने से कॉन्फिडेंस बढ़ा। उसी का परिणाम है कि मध्य प्रदेश को रणजी चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाई। सचिन युगल, जहीर खान, महेला जयवर्धने ने मेरी कामना की। इससे कॉन्फिडेंस आया। बड़े खिलाड़ियों के साथ खेलने पर मुझे अनुभव मिले। गेम में कैसे अप्रोच करते हैं और क्या एटीट्यूड रहना चाहिए।”

कुमार कार्तिकेय का जीवन संघर्ष पूर्ण रहा है।  वे एक बार पूरा खर्च करने के लिए पार्ट टाइम जॉब भी करते थे।

कुमार कार्तिकेय का जीवन संघर्ष पूर्ण रहा है। वे एक बार पूरा खर्च करने के लिए पार्ट टाइम जॉब भी करते थे।

3 साल तक प्रैक्टिस के बाद कानपुर में दिल्ली थे

कार्तिकेय की मां सुनीता और छोटा भाई कुमार विनायक सिंह गिरी में रहते हैं। कार्तिकेय को अभ्यास करते हुए 3 साल हो गए थे। 2014 में वह दिल्ली चली गईं। तब उसकी उम्र 16 साल थी। अकादमी कोच एसएन भारद्वाज ने मुकदमा दर्ज करने के बाद नुकसान दिया। तब पैसे नहीं थे। 10 रुपए बचाने के लिए वह पैदल दौड़ता था।

ये फोटो कार्तिकेय और उनकी मां सुनीता की है।  9 साल बाद घर पर पहुंचने के बाद उनकी मां ने उनसे खूब दुलार किया।

ये फोटो कार्तिकेय और उनकी मां सुनीता की है। 9 साल बाद घर पर पहुंचने के बाद उनकी मां ने उनसे खूब दुलार किया।

कार्तिकेय का कहना है कि दिल्ली में रेंट पर कमरा काफी महंगा था तो दिल्ली से बाहर का कमरा लिया। आने-जाने में 10 घंटे लग जाते थे। आर्थिक स्थिति आपात स्थिति थी तो पार्ट टाइम जॉब की। दिन में प्रैक्टिस करते थे और रात में 1:30 बजे से सुबह 5 बजे तक की नौकरी। बस में यात्रा के दौरान वह सो रहे थे।

2018 में पहली बार एमपी टीम में जगह मिली। सबसे पहले अपने पिता का कॉल प्रूफ बताया गया। तो वे रोने लगे। मैं उनसे 6 साल बाद बात कर रहा था। इसके बाद गेंदबाजी में लगातार निखार आता गया।

पिता बोले- मुंबई इंडियन मेरी फेवरेट टीम, बेटा हमेशा उसी के लिए खेलता है

ये फोटो कार्तिकेय के पिता श्याम नाथ सिंह की है।  वो यूपी पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल हैं।

ये फोटो कार्तिकेय के पिता श्याम नाथ सिंह की है। वो यूपी पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल हैं।

पिता ने कहा कि “मुंबई इंडियन मेरी सबसे पसंदीदा टीम है। मुंबई ने बेटे को वापस ले लिया है। मुझे बहुत खुशी है। मैं चाहता हूं कि वो हमेशा मुंबई के लिए खेलें। आईपीएल खेलने के बाद बेटे की गेंदबाजी में काफी साफ आ गया। इसलिए वे टारगेट करने की कोशिश नहीं करते हैं बस बचने की कोशिश करते हैं। जैसा सचिन, जहीर और महेला जयवर्धने के संरक्षण में बेटे ने बहुत कुछ खुश किया। आईपीएल खेल ही रहे हैं, मैं चाहता हूं कि वो इंडिया टीम में पहुंचे।”

खबरें और भी हैं…

Source link

- Advertisement -

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here